जासं, कानपुर : पुलिस रिस्पांस व्हीकल (पीआरवी) पर घटनास्थल पर पहुंचकर स्थिति नियंत्रण में करने के साथ मार्ग दुर्घटनाओं में घायल को प्राथमिक उपचार देकर नजदीक के अस्पताल पहुंचाने की जिम्मेदारी भी है। रविवार को दैनिक जागरण की टीम ने दक्षिण की पीआरवी का रियलटी चेक किया। पड़ताल में पीआरवी की स्थिति इस मामले में बेहद ही खराब नजर आई। छह गाड़ियों में सिर्फ तीन गाड़ियों में ही फ‌र्स्ट एड किट मिली। कई गाड़ियों में तो क्राइम सीन किट भी नहीं मिली।

--------

पीआरवी 0440 में नहीं मिला क्राइम सीन किट

पीआरवी 0440 में फ‌र्स्ट एड किट उपलब्ध मिली। किट में एक लोशन, एक एंटीसेप्टिक ट्यूब, रूई, पट्टी व पेन किलर दवाओं के पत्ते थे। पीआरवी कर्मी से क्राइम सीन किट के बारे में पूछा गया तो उपलब्ध न होने की जानकारी मिली।

------

पीआरवी 0426 में फ‌र्स्ट एड किट नदारद

पीआवी 0426 में न तो फ‌र्स्ट एड किट न ही क्राइम सीन किट उपलब्ध थी। पूछने पर पीआरवी जवान का कहना था कि फ‌र्स्ट एड किट का सामान लॉक डाउन के पहले से नहीं मिला है। क्राइमसीन किट में टेप आदि पुराना होकर कई जगहों से कट फट चुका था।

पीआरवी 0441 में ना तो क्राइम सीन किट ना ही फ‌र्स्ट एड बॉक्स

पीआरवी 0441 में भी दोनों ही किट उपलब्ध नहीं थीं। कर्मचारियों का कहना था कि काफी दिन से दवाएं आदि नहीं मिली हैं। अभी कुछ दिन पहले से ड्यूटी कर रहे हैं। जब से गाड़ी चला रहे हैं दोनों में से कोई भी किट उपलब्ध नहीं है।

-----

पीआरवी 0447 के जवान बोले- जरूरत ही नहीं पड़ी

पीआरवी 0447 में फ‌र्स्ट एड किट उपलब्ध नहीं थी। जबकि क्राइम सीन किट उपलब्ध मिली है। पीआरवी जवान का कहना था कि वैसे तो प्राथमिक उपचार किट की इतने दिनों में कभी जरूरत नहीं पड़ती। घायल को समय रहते अस्पताल पहुंचाया जाता है।

पीआरवी 0439 में उपलब्ध मिली फ‌र्स्ट एड किट

पीआरवी 0439 में फ‌र्स्ट एड किट उपलब्ध मिली। इसमें पट्टी, एंटीसेप्टिक ट्यूब, दवाइयां, क्राइम सीन किट उपलब्ध मिली। पीआरवी जवान ने बताया कि एक किलोमीटर के दायरे में अस्पताल होते हैं। समय से घायलों को पहुंचाया जाता है।

पीआरवी 0438 में जवानों ने खुद की किट तैयार

पीआरवी 0438 में फ‌र्स्ट एड किट उपलब्ध थी। पीआरवी जवान ने बताया कि पुलिस लाइन से मिलने वाली किट समाप्त हो चुकी है। मौजूदा समय में जो किट है वह खुद से तैयार की हुई है। कई बार पुलिस लाइन में कहा गया, लेकिन किट उपलब्ध नहीं हुई है।

-------------

यह अच्छी स्थिति नहीं है। सभी पीआरवी में फ‌र्स्ट एड किट हो इसे प्राथमिकता के साथ सुनिश्चित कराया जाएगा। जांच भी कराई जाएगी कि कमी कहां से है। अगर कोई दोषी पाया गया तो कार्रवाई भी होगी।

- डॉ. प्रीतिदर सिंह, डीआइजी

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस