प्रयागराज, जेएनएन। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की महासचिव और उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा निषाद समुदाय को साधने के लिए संगमनगरी से वाराणसी तक नदी अधिकार यात्रा निकालेंगी। मंगलवार को अपने आधिकारिक फेसबुक पेज पर उन्होंने यह जानकारी दी। हालांकि अभी तिथि और रूट नहीं तय हो सका है, लेकिन अनुमान है कि फरवरी के आखिरी अथवा मार्च के पहले सप्ताह में यह यात्रा शुरू हो सकती है। 

घूरपुर के बसवार गांव में निषादों के बीच पहुंचीं थीं प्रियंका

घूरपुर के बसवार गांव में बीते रविवार को निषाद समुदाय से संवाद के बाद कांग्रेस महासचिव ने तकरीबन तीन किलोमीटर पैदल चलकर टूटी नावों को देखा था। ऐलान किया था कि वह निषाद समुदाय के हक की लड़ाई सड़क से संसद तक लड़ेंगी। बसवार में चार फरवरी को यमुना की बीच धारा से बालू के अवैध खनन पर पुलिस ने कार्रवाई की थी। नावें तोड़े जाने से निषादों का एक वर्ग आक्रोशित है और विपक्षी दल सरकार को घेर रहे हैैं। कांग्रेस इसमें पीछे नहीं रहना चाहती। निषाद समुदाय के मतदाताओं को साधने के लिए प्रियंका ने इसी पोस्ट में लिखा है 'नदी के असली दावेदार एवं रक्षक निषाद समुदाय के लोग हैं। बसवार, प्रयागराज में उत्तर प्रदेश पुलिस के उत्पीडऩ के विरुद्ध और निषाद समाज के अधिकारों के लिए हम लड़ेंगे।'

सवालों से भाजपा को घेरा

कांग्रेस महासचिव ने इसी पोस्ट में यह जानकारी भी दी है कि जिन निषाद परिवारों की नाव तोड़ी गई है, कांग्रेस सबको संयुक्त रूप से 10 लाख रुपये की आर्थिक मदद करेगी। बालू खनन के लिए निषादराज को-ऑपरेटिव सोसायटी के गठन, बालू माफिया और बड़ी-बड़ी कंपनियों द्वारा कराए जा रहे खनन की जांच कर श्वेत पत्र लाने की मांग भी प्रियंका ने की है। मंगलवार दोपहर कांग्रेस पिछड़ा वर्ग विभाग के कार्यकारी अध्यक्ष मनोज यादव और ऑल इंडिया फिशमैन कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव तूफानी निषाद ने प्रेस वार्ता में इन्हीं बातों को दोहराया।

अभी कार्यक्रम तय नहीं

कांग्रेस वर्किंग कमेटी (सीडब्ल्यूसी) के विशेष आमंत्रित सदस्य और वरिष्ठ कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी ने बताया कि अभी कार्यक्रम तय नहीं है। प्रियंका फरवरी के अंत तक अथवा मार्च के पहले सप्ताह में फिर प्रयागराज आ सकती हैं। वह प्रयागराज से ही नदी अधिकार यात्रा निकालेंगी। उनके आने से पहले उनका दफ्तर भी खोज लिया जाएगा।

निषाद बेटियों को दिलाए कपड़े

प्रियंका के निर्देश पर शिवकुटी के मेंहदौरी निवासी नाविक सुजीत निषाद की तीन बेटियों आरुषि, प्रियल और श्रिया के लिए फ्रॉक दिलाई गई। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने अरैल स्थित ससुराल पहुंचकर उपहार दिया। सोमवार को वंदना निषाद की उन तीनों बेटियों वैष्णवी, पूजा और माला को कपड़ा खरीदवाया गया, जिनके कंधे पर हाथ रखकर वह पैदल चलीं थीं।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप