जागरण न्यूज नेटवर्क, पानीपत : छात्र संघ के चुनाव को लेकर प्रदेशभर में राजनीतिक  हलचल शुरू हो गई है। सोमवार को कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय में छात्र संगठनों ने जुलूस निकाला। साथ ही प्रचार-प्रसार भी शुरू कर दिया। दूसरी ओर से मनोहर सरकार ने अभी तक चुनाव की कोई तारीख निर्धारित नहीं की है। गौरतलब है कि हरियाणा में 22 साल बाद भाजपा सरकार ने छात्र संघ चुनाव कराने की घोषणा की है। लेकिन सरकार अप्रत्यक्ष रूप ये चुनाव कराना चाहती है जबकि छात्र संगठन प्रत्यक्ष रूप से चुनाव चाहते हैं। सरकार को डर है कहीं चुनावों में हिंसा नहीं हो जाए। सोमवार को कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के कैंपस में महाराणा प्रताप छात्र संगठन के विद्यार्थियों ने जुलूस निकालकर शक्ति प्रदर्शन किया।

छात्र संघों की यह है मांग

हरियाणा में 22 साल बाद छात्र संघ चुनाव हो रहे हैं। इनेलो के छात्र संगठन इनसो और कांग्रेस के एनएसयूआइ समेत अन्य संगठनों के बाद भाजपा के छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने भी अप्रत्यक्ष छात्र संघ चुनाव का विरोध कर रहे हैं। वहीं, सरकार चुनावों में संभावित हिंसा को रोकने की मंशा से अप्रत्यक्ष चुनाव कराना चाहती है।

बंसीलाल ने लगाई थी रोक

गौरतलब है कि वर्ष 1996 में तत्कालीन मुख्यमंत्री बंसीलाल ने छात्र संघ के चुनाव पर रोक लगाई थी। बाद में राज्य में इनेलो व कांग्रेस की सरकारें रहीं, मगर किसी ने छात्र संघ चुनाव कराने का साहस नहीं जुटाया।

students kuru

इनसो और एनएसयूआइ समेत 16 संगठन प्रत्यक्ष चुनाव के हक में

इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला का कहना है कि अप्रत्यक्ष चुनावों के जरिये भाजपा कालेज और विश्वविद्यालयों पर कब्जा करना चाहती है। अधिकतर छात्र संगठन इस मुद्दे पर एक है। एनएसयूआइ के प्रदेश अध्यक्ष दिव्यांशु बुद्धिराजा के अनुसार अप्रत्यक्ष चुनाव का खुला विरोध होगा।

प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष चुनावों में अंतर

छात्र संघ के प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष चुनावों में काफी अंतर है। प्रत्यक्ष चुनाव के तहत सीआर (कक्षा प्रतिनिधि), कालेज या विश्वविद्यालय अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, महासचिव और संयुक्त सचिव समेत तमाम पदाधिकारी सीधे वोटिंग के जरिये चुने जाते है। अप्रत्यक्ष चुनाव में सिर्फ सीआर चुन लिए जाते है। फिर सीआर अपने में से किसी को अध्यक्ष या उपाध्यक्ष समेत अन्य पदों पर नामित कर सकते है।

cm manohar lal

इस साल अप्रत्यक्ष चुनाव, अगले साल प्रत्यक्ष : मनोहर लाल

वहीं, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल का कहना है कि इस साल अप्रत्यक्ष चुनाव ही कराए जाएंगे। लिंगदोह कमेटी की सिफारिश पर चुनाव हो रहा है। टंकेश्वर कुमार की कमेटी ने भी अप्रत्यक्ष चुनाव की सिफारिश की है। अगले साल से प्रत्यक्ष चुनाव कराए जाएंगे।

Posted By: Ravi Dhawan

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस