जागरण संवाददाता, अजनाला, अमृतसर : भारत-पाक अंतरराष्ट्रीय सीमा पर स्थित अटारी में पुलिस टीम पर गोलियां चलाने वाले गैंगस्टरों का पुलिस सुराग नहीं लगा पाई है। गैंगस्टरों की कार का नंबर लेकर भी पुलिस मुलाजिम असमंजस में हैं। एसपी गौरव तूड़ा ने बताया कि रास्ते में दुकानों पर लगे सीसीसीटी कैमरे खंगाले जा रहे हैं। कार का नंबर जानने के लिए पुलिस प्रत्येक प्रयास कर रही है। उधर, घरिडा थाना के प्रभारी मनिदर सिंह ने बताया कि वीरवार को फिलहाल अज्ञात आरोपितों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है।

दरअसल, घरिडा पुलिस को बुधवार को सूचना मिली थी कि कुछ गैंगस्टर कार में सवार होकर भारत-पाक सीमा के पास किसी इलाके में छिपाकर रखी हेरोइन व हथियारों की खेप को ठिकाने लगाने की फिराक में हैं। इसी आधार पर पुलिस ने काहनगढ़ इलाके में नाकाबंदी कर दी थी। संदिग्ध परिस्थितियों में कार सवार दो युवकों को आते देखकर रुकने का इशारा किया गया था, लेकिन कार सवारों ने पुलिस पर फायरिग कर दी और फरार हो गए। पुलिस ने आरोपितों का पांच किलोमीटर तक पीछा भी किया, मगर आरोपितों का कहीं सुराग नहीं लगा।

वहीं इससे पहले दिन में थाना डिवीजन बी के अंतर्गत पड़ते शहीद ऊधम सिंह नगर में पतंगबाजी के दौरान हुई नोकझोंक के बाद पड़ोसियों ने बुधवार की रात जगदीश सिंह उर्फ माड़ी मेघा की गोलियां मारकर हत्या कर दी। जगदीश अगले माह वार्ड 37 से नगर निगम के होने वाला उपचुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे थे। थाना प्रभारी इंस्पेक्टर भूपिदर सिंह ने बताया कि मृतक के पिता भूपिदर सिंह के बयान पर मंदीप सिंह बराड़, उसके भाई सुखचैन सिंह उर्फ राजा बराड़, अमनचैन सिंह बराड़ और उनके पिता पलविदर सिंह उर्फ बिल्ला के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया गया है। उन्होंने बताया कि घटनास्थल से पुलिस ने छह गोलियों के खोल भी बरामद किए हैं। पुलिस ने देर शाम को पलविदर सिंह उर्फ बिल्ला को गिरफ्तार कर लिया।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021