पीलीभीत, जेएनएन: शहर के प्रमुख मार्गों के फुटपाथ पर दुकानदारों ने कब्जा कर रखा है। कई जगह लोगों ने पार्किंग बना ली है। ऐसे में पैदल गुजरने वालों को काफी असुविधा हो रही है। स्टेशन रोड व स्टेडियम रोड पर यह समस्या सबसे ज्यादा है।

तीन साल पहले जागरण के अभियान 'ये फुटपाथ हमारा है' के तहत जिला प्रशासन व नगर पालिका परिषद ने संयुक्त रूप से अभियान चलाया था। इसमें व्यापारी संगठनों ने भी सहयोग दिया। ऐसे में पूरे शहर में पहली बार अभियान को सफलता मिली। सड़कें खुली-खुली और चौड़ी नजर आने लगीं। जिला प्रशासन के निर्देश पर पैदल और साइकिलों पर सवार होकर निकलने वाले लोगों की सुविधा के लिए स्टेशन रोड व स्टेडियम रोड पर फुटपाथ को पक्का बनाया गया। कुछ समय तक तो राहगीरों को फुटपाथ पर चलने की सुविधा मिलती रही, लेकिन फिर नगर पालिका परिषद की अनदेखी से फुटपाथ पर कब्जे होने लगे। कोविड-19 के दौर में लॉकडाउन खत्म होते ही जब अनलॉक का सिलसिला शुरू हुआ तो जैसे फुटपाथ पर कब्जा जमाने की होड़ लग गई। स्टेशन रोड स्थित गैस चौराहा, जेपी रोड पर कई स्थानों पर फुटपाथ को ही पार्किग स्टैंड बना लिया गया। स्टेडियम रोड पर फुटपाथ के साथ ही नाला की स्लैब के ऊपर भी दुकानें सजी रहती हैं। ऐसे में पैदल निकलने वालों की दिक्कतें फिर बढ़ गई हैं। फुटपाथ पर कब्जा करना अनुचित है। इससे पैदल गुजरने वाले राहगीरों को दिक्कतें होती हैं। नगर पालिका परिषद को इसका संज्ञान लेना चाहिए।

सौरभ गंगवार यह नगर पालिका परिषद की लापरवाही के कारण दोबारा फुटपाथ पर कब्जे हो गए हैं। इससे नागरिकों को समस्या आती है। कब्जे हटने चाहिए।

जगदीश शर्मा स्टेशन रोड पर नगर पालिका को पार्किंग स्थल तय करना चाहिए। व्यापार मंडल के सहयोग से फुटपाथ खाली कराने की कार्रवाई हो।

शुभम गौड़ अतिक्रमण हटाने के लिए जल्द ही योजना बनाई जाएगी। लोगों को मौका दिया जाएगा कि वे खुद ही सड़कों से अतिक्रमण हटा लें। ऐसा न करने वालों पर जुर्माना लगाया जाएगा।

सुरेंद्र प्रताप, अधिशासी अधिकारी, नगर पालिका परिषद

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस