देवरिया: कलेक्ट्रेट स्थित राजस्व अभिलेखागार में रखे गए जिले के 280 गांवों के 293 मानचित्र रख रखाव में लापरवाही के चलते फटकर नष्ट हो गए हैं या गायब हो गए हैं। जिसके कारण इनका डिजिटलाइजेशन कार्य नहीं हो पा रहा है। जिला प्रशासन की तरफ से राजस्व परिषद से चार सालों से पत्राचार कर रहा है। अभी तक कोई समाधान नहीं निकल सका है। इन गांवों में भूमि विवाद सुलझने का नाम नहीं ले रहे हैं।

जिले के 2178 ग्रामों में 2258 भू-नक्शे हैं। शासन ने भूनक्शों को डिजिटलाइज्ड करने की कवायद चार साल पहले शुरू की। 1898 गांवों के 1965 भू-नक्शे राजस्व अभिलेखागार में उपलब्ध हैं। जिनको डिजिटाइज्ड किया जा चुका है। तहसीलों के माध्यम से 1570 का आरओआर लिकिग का सत्यापन भी हो चुका है। दो गांव चकबंदी के सर्वे प्रक्रिया व 11 गांवों में चकबंदी चल रही है। आठ गांव गैर आबाद हैं। भाटपाररानी के 228, बरहज के 239 व रुद्रपुर के 136 ग्रामों के सत्यापन किया जाना बाकी है। डिजिटलाइज्ड भू-नक्शों में गलतियों की भरमार है। कहीं सड़क गायब तो कहीं गाटा संख्या व अन्य जानकारियां गलत अंकित है। सत्यापन कार्य में लापरवाही की जा रही है। मुख्य राजस्व अधिकारी अमृतलाल बिद ने बताया कि जिन गांवों के भू-नक्शे गायब हैं, उनको उपलब्ध कराने के लिए राजस्व परिषद से पत्राचार किया जा रहा है। भू-नक्शे उपलब्ध होने पर ही डिजिटलाइज्ड कार्य संभव हो सकेगा।

अपर महाप्रबंधक ने किया भटनी-औड़िहार रेल खंड का विडो निरीक्षण

देवरिया: पूर्वोत्तर रेलवे के अपर महाप्रबंधक अमित कुमार अग्रवाल ने गुरुवार को भटनी-औड़िहार रेल खंड का विडो निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान कुछ कमियां नजर आई तो उन्होंने सुधार करने का भी निर्देश दिया। अपर महाप्रबंधक सबसे पहले भटनी रेलवे स्टेशन स्पेशल शैलून से पहुंचे और स्टेशन का निरीक्षण किए। निरीक्षण के दौरान उन्होंने साफ-सफाई पर विशेष ध्यान देने का निर्देश दिया। उन्होंने स्टेशन के आरक्षण काउंटर, प्लेटफार्म व यार्ड का निरीक्षण किए। इसके बाद विडों से भटनी-औड़िहार रेल खंड का दोहरीकरण व विद्युतीकरण कार्य का निरीक्षण किया। सलेमपुर व लार रोड रेलवे स्टेशन का भी उन्होंने निरीक्षण किया। इस दौरान वरिष्ठ मंडल इंजीनियर अतुल त्रिपाठी, रेल विकास निगम लिमिटेड के प्रोजेक्ट निदेशक वीके शुक्ला व अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021