लखनऊ, जेएनएन। राष्ट्रीय वनस्पति अनुसंधान संस्थान (एनबीआरआई) एक मार्च से मॉर्निंग वॉकर्स के लिए उद्यान खोलने की तैयारी में है। संस्थान ने कोविड के चलते नई गाइडलाइन तैयार की है। इच्छुक व्यक्ति मासिक व सालाना पास बुधवार से बनवा सकेंगे। दैनिक आगंतुकों के लिए पूर्ववत टिकट की व्यवस्था रहेगी। कोशिश यह है कि नि भ्रमण के लिए लोग मासिक व सालाना पास का ही मुख्य रूप से प्रयोग करें जिससे मॉर्निंग वॉकर्स का ब्यौरा भी संस्थान रख सके।

मंगलवार को एनबीआरआई के निदेशक डॉ.एस के बारिक एवं प्रधान वैज्ञानिक और उद्यान प्रभारी डॉ.एसके तिवारी ने यह जानकारी देते हुए कहा कि कोविड-19 के चलते बीते कई महीनों से उद्यान मॉर्निंग वॉकर्स के लिए बंद था। अब जबकि कोविड के मामलों में काफी कमी आई है सिनेमा हॉल, मॉल व पार्क खुलने लगे हैं तो यह निर्णय लिया गया है कि संस्थान का उद्यान भी मॉर्निंग वॉकर्स के लिए खोल दिया जाए। डॉ. तिवारी ने बताया कि नियमों में कुछ बदलाव कोविड के चलते किए गए हैं। इच्छुक लोगों को मासिक अथवा वार्षिक कार्ड बनवाने होंगे। हालांकि पहले की तरह दैनिक टिकट भी उपलब्ध होगा। लेकिन संस्थान की कोशिश है कि लोग भ्रमण के लिए मासिक अथवा वार्षिक कार्ड का ही उपयोग करें।

भ्रमण के लिए दैनिक टिकट की कीमत ₹5 निर्धारित की गई है। वहीं मासिक कार्ड बनवाने के लिए सामान्य नागरिक को ₹50 और वार्षिक कार्ड के लिए ₹500 देने होंगे। वरिष्ठ नागरिकों के लिए इस कीमत को 50 फीसद कम रखा गया है। मासिक कार्ड ₹25 और सालाना ₹250 का होगा। प्रातःभ्रमण के लिए आठ बजे के बाद प्रवेश नहीं दिया जाएगा। साढ़े आठ बजे तक उद्यान परिसर को खाली करना अनिवार्य होगा। कार्ड बनवाने व प्रवेश शुल्क का भुगतान करने की सुविधा गेट नंबर तीन (सहारागंज साइड) सेल सेक्शन में बुधवार से उपलब्ध होगी भुगतान डिजिटल माध्यम से ही किया जा सकेगा। दैनिक मॉर्निंग वॉकर्स के लिए भुगतान प्रक्रिया पूर्व की भांति रहेगी। डॉ.तिवारी ने बताया कि आगंतुकों को भारत सरकार व उत्तर प्रदेश सरकार की कोविड-19 गाइडलाइन का अनुपालन अनिवार्य रूप से करना होगा। मास्क का प्रयोग अनिवार्य होगा, इधर-उधर थूकने पर मनाही होगी। कार्ड बनवाने के लिए संस्थान की वेबसाइट पर उपलब्ध आवेदनपत्र को डाउनलोड कर भर सकते हैं।

सेल सेक्शन में भी फॉर्म उपलब्ध कराए जाएंगे। लोग फॉर्म भरकर जमा करने के साथ शुल्क भी अदा कर सकेंगे। मॉर्निंग वॉक के लिए लोगों को गेट नंबर तीन जो कि सहारागंज की तरफ खुलता है उसी का इस्तेमाल करना होगा। अन्य किसी गेट से प्रवेश अथवा निकासी कीअनुमति नहीं होगी। डॉ.बारिक ने बताया कि छात्रों, शोधकर्ताओं व प्रशिक्षुओं को उद्यान परिसर में केवल मंगलवार एवं बृहस्पतिवार को ही प्रवेश की अनुमति होगी। दोनों दिन अधिकतम 50 व्यक्ति दो-दो के बैच में प्रवेश कर सकेंगे। भ्रमण अवधि दो घंटे तय की गई है। उन्होंने कहा कि कोरोना अभी खत्म नहीं हुआ है ऐसे में संस्थान ने मॉर्निंग वॉकर्स की जबरदस्त मांग को देखते हुए परिसर को खोलने का निर्णय लिया है लेकिन लोगों को तय नियमों का अनुपालन अनिवार्य रूप से करना होगा। उन्होंने लोगों से सहयोग की अपेक्षा की है। 

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप