कुशीनगर : फाजिलनगर के जोगिया रोड निवासी रेडीमेड व्यवसायी पवन अग्रवाल के घर हुई लूट की घटना के चार दिन बाद भी पुलिस खाली हाथ है। इसे लेकर व्यवसायी व स्वजन भयभीत हैं। उधर लूट की घटना को हादसा मान रही पुलिस व्यवसायी के घायल पत्नी के स्वस्थ होने का इंतजार कर रही है।

लूट की इस घटना के पर्दाफाश को लेकर पटहेरवा पुलिस के अलवा सर्विलांस टीम भी लगाई गई है। लेकिन टीम के हाथ अब तक कोई ठोस सुराग नहीं लगे हैं। शनिवार को सर्विलांस टीम ने घटनास्थल व आस-पास के घरों में पहुंच लोगों से पूछताछ की पर उसके हाथ कुछ खास नहीं आया। उधर हमले में घायल अनिता अग्रवाल की हालत में डाक्टरों ने सुधार बताया है। पति पवन अग्रवाल रोज की तरह रविवार को दुकान पर बैठे। उन्होंने बताया कि चार दिन बीतने के बाद भी पुलिस हमलावर का सुराग नहीं पा सकी है। इससे खतरे की आशंका बनी हुई है।

जोगिया रोड निवासी पवन अग्रवाल की फाजिलनगर में रेडीमेड की दुकान है। बीते गुरुवार की शाम करीब पांच बजे उन्हें पत्नी अनिता अग्रवाल के घायल होने की सूचना मिली। घर पहुंचे पवन व उनके बेटे हिमांशु ने देखा कि अनिता घायल पड़ी है। स्वजन उन्हें आनन-फानन कस्बा स्थित एक निजी अस्पताल ले गए। वहां प्राथमिक उपचार बाद डाक्टर ने मेडिकल कालेज रेफर कर दिया। स्वजन गोरखपुर स्थित एक निजी अस्पताल ले गए, जहां उनका इलाज चल रहा है। व्यवसायी ने पुलिस को दिए तहरीर में घर में रखे चार लाख 80 हजार रुपये लूट होने का आरोप लगाया है। वहीं पुलिस इसे हादसा बता रही है। एसएचओ अतुल्य कुमार पांडेय ने बताया कि विवेचना चल रही है। घायल अनिता के स्वस्थ होने पर ही घटना की सच्चाई सामने आ सकेगी। पुलिस टीम ने लिया अनिता का बयान

घायल अनिता अग्रवाल का बयान लेने रविवार को पुलिस टीम गोरखपुर पहुंची। तीन बार में उन्होंने हर बार अलग-अलग बयान दिया। ऐसे में घटना को लेकर उलझी गुत्थी अभी सुलझती नहीं दिख रही है। एसपी विनोद कुमार सिंह ने बताया कि महिला ने तीन बार में तीन तरह का बयान दिया है। उनके पूरी तरह स्वस्थ होने के बाद ही वास्तविकता सामने आ सकेगी।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस