जमशेदपुर, जासं। जमशेदपुर एक औद्योगिक शहर है। यहां टाटा स्टील, टाटा मोटर्स, टाटा पावर, टाटा कमिंस समेत 24 बड़ी व लगभग 1400 मध्यम व छोटी कंपनियां हैं। जाहिर सी बात है कि यहां किसी रासायनिक आपदा से इन्कार नहीं किया जा सकता। एकाध बार ऐसी घटनाएं हो भी चुकी हैं, लेकिन आपदा प्रबंधन की व्यवस्था ने इसे विकराल नहीं होने दिया। भविष्य में भी ऐसी किसी आपदा से सफलतापूर्वक निपटा जा सके, इसके लिए जिला प्रशासन बुधवार को पूर्वाभ्यास या मॉकड्रिल कर रहा है।

मॉकड्रिल का घटनास्थल टाटा स्टील परिसर से सटे जिंजर होटल की बगल वाली गली को बनाया गया है, जहां सुबह 10 बजे से गैस रिसाव की काल्पनिक घटना होगी। तैयारी के मुताबिक यहां से घायलों को पास के वोल्टास बिल्डिंग में रखा जाएगा, जबकि गंभीर रूप से घायल लोगों को टाटा मुख्य अस्पताल या टीएमएच पहुंचाया जाएगा। इसके लिए जिला प्रशासन के अधिकारियों ने सारी तैयारी कर ली है। मंगलवार की शाम को काल्पनिक घटनास्थल का निरीक्षण भी किया गया, जिसमें अपर उपायुक्त प्रदीप प्रसाद व अपर जिला दंडाधिकारी नंदकिशोर लाल भी शामिल थे। होटल जिंजर से टीएमएच तक बिष्टुपुर की मुख्य सड़क को मॉकड्रिल के दौरान खाली रखा जाएगा। करीब 14 स्थानों पर मजिस्ट्रेट व पुलिस बल तैनात रहेंगे, ताकि आपदा राहत के दौरान सड़क पर कोई नहीं आ सके। पूर्वाभ्यास एनडीआरएफ टीम के साथ की जाएगी, ताकि कोई कमी रह जाए तो दिशा-निर्देश दे सकें।

मॉकड्रिल के लगेंगे पोस्टर-बैनर

पूर्वी सिंहभूम के उपायुक्त सह जिला दंडाधिकारी सूरज कुमार ने बार-बार अधिकारियों को चेतावनी दी है कि मॉकड्रिल के दौरान जगह-जगह मॉकड्रिल का पोस्टर-बैनर लगाना है, ताकि कोई असामाजिक तत्व इसकी वीडियो लेकर उसका अवांछित उपयोग नहीं कर सके। इस दौरान प्रयुक्त एंबुलेंस, फायर ब्रिगेड, वज्रवाहन आदि वाहनों में भी मॉकड्रिल लिखा पोस्टर-बैनर लगाया जाए।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप