शोध-अनुसंधान..

-उपयोगी सूक्ष्मजीवों के मिश्रण से रासायनिक खाद व कीटनाशकों का खर्च हो जाएगा 30 से 40 फीसद कम

-उपयोग में आसानी, बचेगा खर्च, उत्पादन होगा भरपूर

-बस, एक एकड़ के लिए 100 एमएल बायो फर्टिलाइजर शैलेश अस्थाना, मऊ :

खेतों की बिगड़ती दशा और सूक्ष्म पोषक तत्वों के लिए उर्वरकों की निर्भरता कम करने के लिए राष्ट्रीय कृषि उपयोगी सूक्ष्मजीव ब्यूरो के वैज्ञानिकों ने कृषि उपयोगी सूक्ष्मजीवों को मिलाकर कल्चर आधारित पोषक तत्व तैयार किया है। इनमें ऐसे सूक्ष्मजीवों को शामिल किया गया है जो मिट्टी में नाइट्रोजन, पोटाश और फास्फोरस सहित अन्य आवश्यक पोषक तत्वों की मात्रा को संतुलित कर दे। इस मिश्रण का नाम दिया है बायो-ग्रो। 100 एमएल की शीशी एक एकड़ खेत के लिए पर्याप्त है। इसकी कीमत है महज 50 रुपये। वैज्ञानिकों का दावा है कि पहले वर्ष के इस्तेमाल में ही यह मिश्रण किसानों को 30 से 40 फीसद रासायनिक खादों और कीटनाशकों से मुक्ति दिला देता है। इस तरह एक एकड़ खेत में लगभग 900 और एक हेक्टेयर में लगभग 2000 रुपये की खाद की लागत कम हो जाती है। कीटनाशक का भी खर्च बच जाता है। यदि किसान इसके साथ कार्बनिक खाद का प्रयोग करते हैं तो तीन-चार वर्षों तक इसके उपयोग से रासायनिक खादों से पूरी तरह से मुक्ति तो पा ही लेंगे। जनपद के कोपागंज ब्लाक के भेलाबांध गांव निवासी चंद्रमा यादव, गाजीपुर के अजय पांडेय ने बताया कि इसका चमत्कारिक लाभ मिला। कैसे करेंगे इस्तेमाल ब्यूरो के प्रधान वैज्ञानिक डा.आलोक श्रीवास्तव बताते हैं कि बायोग्रो की 100 एमएल शीशी को एक लीटर पानी में घोल दें, इसमें दो चम्मच चीनी या गुड़ डाल दें ताकि विलयन लिसलिसा हो जाय। इस घोल को एक एकड़ में बोए जाने वाले बीज पर छिड़क कर उसे अच्छी तरह से मिला लें, ताकि घोल प्रत्येक बीज पर अच्छी तरह से चिपक जाय। इसके बाद 15-20 मिनट बाद बीज की खेत में सामान्य तरीके से बोआई कर दें। यह उत्पाद मऊ और आजमगढ़, गाजीपुर के 3500 किसानों तक पहुंच चुका है। इन उत्पादों का प्रयोग अनाज, दलहन, तिलहन, सब्जी, बागवानी आदि हर फसल में किया जा सकता है।

संस्थान ने बनाए हैं और भी सूक्ष्मपोषक तत्व

ब्यूरो प्रकृति में पाए जाने वाले सूक्ष्मजीवों में से कृषि उपयोगी सूक्ष्मजीवों पर शोध कर उन्हें कृषि के विकास के योग्य बनाता है। किसानों की आय बढ़ाने के लिए इसी इसी तरह के अन्य उत्पाद भी बनाए गए हैं। बायो एनपीके, बायो जिक, बायो फास, बायो-के, बायो जिक, बायो बैक्टर आदि उत्पादों का प्रयोग कर कम खर्च में रासायनिक उत्पादों से मुक्ति पा सकते हैं।

-डा.एके सक्सेना, निदेशक, राष्ट्रीय कृषि उपयोगी सूक्ष्मजीव ब्यूरो, कुशमौर, मऊ।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021