आगरा, जागरण संवाददाता। भले ही कोरोना वैक्सीन सरकारी कर्मचारियों को मुफ्त में लग रही हो लेकिन बड़ी संख्या में कर्मचारी ऐसे हैं, जो वैक्‍सीन लगवाने से डर रहे हैं। अगर यकीन नहीं आता है तो कलेक्ट्रेट और तहसील के कर्मचारियों की संख्या को ले लीजिए। कलेक्ट्रेट और तहसीलों में कुल 1061 कर्मचारी हैं, जिसमें अभी तक 815 कर्मचारियों ने ही कोरोना वैक्सीन लगवाई है। यानी 246 कर्मचारी ऐसे हैं, जिन्होंने अभी वैक्सीन नहीं लगवाई है।

एडीएम प्रशासन निधि श्रीवास्तव का कहना है कि ऐसे कर्मचारियों को चिन्हित कर दिया गया है, वैक्सीन न लगवाने की वजह उनसे पूछी जा रही है। कुछ ऐसे भी कर्मचारी थे, जिनका नंबर आने पर वह अवकाश पर रहे। इसके चलते वैक्सीन लगवाने के लिए नहीं पहुंच सके।

वैक्सीन है सुरक्षित, मौका आए तो जरूर लगवाएं

जिलाधिकारी प्रभु एन सिंह का कहना है कि कोविड वैक्सीन तरह से सुरक्षित है। जब भी मोबाइल पर कोविड वैक्सीन लगवाने का मैसेज आ जाए, इसे मिस नहीं करना चाहिए। न खुद अफवाह फैलाएं और ना किसी को फैलाने दें।

मास्क है जरूरी

डीएम का कहना है कि जब भी घर से बाहर निकलें, अनिवार्य रूप से मास्क लगाकर निकलेंं। साथ ही दो गज की दूरी का भी पालन करें। क्‍योंकि देश से अभी कोरोना वायरस पूरी तरह से खत्‍म नहीं हुआ है और अन्‍य राज्‍यों में दुबारा से हालात चिंताजनक होते जा रहे हैं।

यह है कर्मचारियों की संख्या

वर्ग, कुल कर्मचारियों की संख्या, वैक्सीन लगी, वैक्सीन नहीं लगी

- लिपिकीय संवर्ग, 129, 97, 32

- तहसील सदर, 234, 217, 17

- एत्मादपुर, 95, 31, 64

- किरावली, 124, 63 , 61

- फतेहाबाद ,90, 75, 15,

- बाह, 85, 76, 9

- खेरागढ़ , 109, 87, 22

- चकबंदी, 73, 62, 11

- भू अर्जन, 18, 17, 1

- आर मुख्यालय , 39, 30, 9

- कलेक्ट्रेट चतुर्थ श्रेणी 65, 60, 5

 

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप