संवाद सहयोगी, हाथरस : रोडवेज ने इस बार दीपावली पर बेहतर प्रदर्शन करते हुए दस दिन में डेढ़ करोड़ रुपये की कमाई की। पिछले वर्ष की तुलना में करीब 29 लाख रुपये की अधिक कमाई करते हुए रोडवेज ने मंडल में प्रथम स्थान प्राप्त किया है। अधिकारियों ने इसे डिपो की बड़ी उपलब्धि माना है।

वैश्विक महामारी कोरोना के चलते करीब छह माह तक रोडवेज की बसों का संचालन बंद रहा। इसके बाद अनुमति मिलने पर सितंबर में बसों का संचालन शुरू हुआ। ऐसे में अधिकारियों के सामने बसों के लिए यात्रियों को लेकर दिक्कतें सामने आ रही थीं। इसके बाद भी विभागीय अधिकारियों ने प्रयास जारी रखे। धीरे-धीरे यात्रियों की संख्या बढ़ने लगी। रक्षाबंधन पर्व पर कोई विशेष कमाई रोडवेज की नहीं हुई। दीपावली पर्व को भुनाने के लिए प्रोत्साहन योजना रोडवेज के काम आई। यह योजना 12 नवंबर से 21 नवंबर तक चलाई गई। दस दिन में कमाए डेढ़ करोड़

रोडवेज ने गतवर्ष की तुलना में इस वर्ष करीब 29 लाख रुपये की अधिक कमाई की। नौ फीसद लोड फैक्टर के साथ रोडवेज की प्रति बस ने प्रतिदिन 4021 रुपये की कमाई की। इसमें अलीगढ़ मंडल के एटा, अलीगढ़, बुद्धविहार, कासगंज, अतरौली, नरोरा में हाथरस डिपो ने सबसे अधिक राजस्व प्राप्त किया।

प्रथम रहा हाथरस डिपो

अलीगढ़ मंडल के सातों डिपो में अधिक आय अर्जित करते हुए हाथरस डिपो को प्रथम स्थान मिला है। दूसरा स्थान नरोरा डिपो को मिला है। अधिकारियों ने इसके लिए डिपो में एआरएम शशीरानी, स्टेशन प्रभारी बीरी सिंह, हरी सिंह, सुमित अवस्थी के अलावा चालक-परिचालकों के सहयोग की सराहना की। दो साल के कमाई के आंकड़े

वर्ष, आमदनी लाख में, लोड फैक्टर, बस उपयोगिता, आय प्रतिबस

2019, 124.44, 64 फीसद, 438, 14470

2020, 153.47, 73 फीसद, 444, 18490

इनका कहना है

दीपावली पर्व पर डिपो ने मंडल के सातों डिपो में अधिक कमाई करते हुए प्रथम स्थान प्राप्त किया है। इसका श्रेय डिपो के सभी कर्मियों को जाता है।

- शशीरानी, एआरएम

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस