संवाद सहयोगी, चितरा : चितरा के नावाडीह बस्ती के तकरीबन एक दर्जन परिवारों को ना तो खाद्य सुरक्षा के तहत राशन मिल रहा है और ना नल जल योजना के तहत पेयजल। सरकारी योजना से वंचित परिवारों ने जिला प्रशासन से न्याय की गुहार लगाई है। गांव में तकरीबन 40 दलित परिवार रहते है। इसमें कई परिवार गरीबी रेखा के नीचे जीवन बसर करते हैं। इसमें से लगभग एक दर्जन परिवारों को खाद्य सुरक्षा का कोई लाभ नहीं मिल रहा है। वजह इन लोगों के पास राशन कार्ड का नहीं होना। इतना ही नहीं हाल ही में यहां जल मीनार लगाई गई। जल नल योजना के तहत कई परिवारों को जलापूर्ति के लिए पाइप से उनके घरों को जोड़ा गया है। लेकिन इस योजना से भी ये लोग वंचित हैं। इस संबंध में पनवरिया देवी, रेखा देवी, रूपा देवी, पबिया देवी, कुंती देवी, द्रौपदी देवी, कुसमी देवी, पबीया देवी का कहना है कि राशन कार्ड के लिए उनके परिवार के लोगों ने पंचायत से लेकर प्रखंड तक का चक्कर लगाया। तत्कालीन कृषि मंत्री रणधीर सिंह से भी इस संबंध में शिकायत की। सब जगह से केवल आश्वासन ही मिला। इन महिलाओं का कहना है कि कुछ ही दिन पहले जल मीनार लगाई गई। सौर ऊर्जा से संचालित जलापूर्ति योजना के तहत कई परिवारों को पाइप लाइन से जोड़ा गया। लेकिन कार्यकारी एजेंसी के मुंशी को पाइप लाइन के लिए नजराना दे पाने में असमर्थ होने की वजह से जलापूर्ति करने की सुविधा नहीं मिली। महिलाओं ने जिला प्रशासन से सरकारी योजना का लाभ दिलाने की मांग की।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021