लखनऊ, जेएनएन। महिलाओं को थाने आने में किसी तरह की झिझक नहीं महसूस हो और अपनी बात आसानी से कह सकें, इसके लिए प्रत्येक थाना परिसर में एक अलग से विजिटर रूम बनाया जाएगा। साथ ही महिलाओं के लिए अलग से शौचालय भी बनेगा।

डीएम ने रविवार को ग्रामीण क्षेत्रों के सभी पुलिस अधिकारियों एवं थाना प्रभारियों की बैठक बुलाकर कानून व्यवस्था को चौकस बनाने के निर्देश दिए। डीएम ने कहा कि महिलाओं के साथ होने वाले अपराध पर पुलिस संवेदनशील होकर काम करे। किसी भी शिकायत को नजरअंदाज नहीं किया जाए। उनके लिए थाने में सुविधाएं बढ़ाई जाएं, ताकि वह सहज महसूस करें। डीएम ने ग्रामीण क्षेत्रों में अवैध शराब को लेकर भी पुलिस को और सतर्कता बरतने की नसीहत दी। पुलिस को आबकारी विभाग के साथ समन्वय बनाकर अवैध शराब कारोबार करने वालों की धरपकड़ करनी होगी। पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों को यह भी निर्देशित किया कि समय-समय पर शराब की दुकानों की चेकिंग करते रहें ताकि स्टॉक में गड़बड़ी मिलने पर उनके खिलाफ कार्रवाई की जा सके। डीएम ने कहा कि पंचायत चुनाव भी प्रस्तावित है। ऐसे में पुलिस और प्रशासन की जिम्मेदारी ग्रामीण क्षेत्रों में बढ़ जाती है। इस दौरान छोटी-छोटी समस्याओं को लेकर चुनावी रंजिश होती है, जिसको रोकना है। सभी सीओ और एसडीएम ग्राम पंचायतों के संपर्क में रहे और किसी भी समस्या का निस्तारण तत्काल प्रभाव से किया जा सके। बैठक में पुलिस अधीक्षक ग्रामीण, अपर जिलाधिकारी प्रशासन समेत अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे। एलडीए कार्यालय के हर तल पर आज से मिलेंगे गार्ड लखनऊ विकास प्राधिकरण में निजी कोलोनाइजर, बिल्डर और भूमाफिया के प्रवेश पर आज से रोक का असर दिखने की उम्मीद है। डीएम व एलडीए उपाध्यक्ष अभिषेक प्रकाश के निर्देशों के बाद एलडीए ने इसकी रूपरेखा को अमली जामा पहनाने का काम भी कर लिया है। नई व पुरानी बिल्डिंग के हर तल पर अब सुरक्षा गार्ड मिलेंगे। वहीं, प्रवेश द्वार पर भी सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है। उद्देश्य है कि जो काम ऑनलाइन होने वाला है, वह ऑनलाइन ही निर्धारित समय में किया जाए। अगर समय से काम नहीं हुआ तो संबंधित अफसरों की जवाबदेही तय होगी। वहीं, एलडीए में अधिकारियों व कर्मचारियों की शत-प्रतिशत उपस्थिति का असर सोमवार से दिखना तय है। कई अफसर व कर्मचारी अपने जवाब भी सोमवार को सचिव के जरिए डीएम व एलडीए उपाध्यक्ष अभिषेक प्रकाश के पास रखेंगे।

उधर, गोमती नगर थाने की पुलिस बिल्डर दिलीप सिंह बाफिला तक नहीं पहुंच सकी। दिलीप पर एलडीए के तहसीलदार मोहम्मद असलम ने महत्वपूर्ण सरकारी गोपनीय दस्तावेजों से छेड़छाड़, विभागीय कर्मचारियों से मिलीभगत व कूट रचना का आरोप लगाते हुए कई धाराओं में मामला दर्ज कराया था।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस