जागरण संवाददाता, गाजियाबाद: बृहस्पतिवार को पुलिस सुरक्षा में जिले में कोरोना वैक्सीन पहुंच गई है। स्वास्थ्य विभाग के विशेष वैक्सीन वाहन से मेरठ से लाई गई। इस वैक्सीन को जिला एमएमजी अस्पताल में बनाए गए ई-वैक्सीन स्टोर में सुरक्षित रखवा दिया गया है। स्टोर के चारों तरफ पुलिस तैनात है। वैक्सीन को टीकाकरण केंद्रों पर पहुंचाने के लिए कई वैक्सीन वाहनों का इंतजाम है। पुलिस,प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने कोरोना वैक्सीन को सुरक्षित रखने, केंद्रों तक पहुंचाने और कोल्ड चेन बरकरार रखने के लिए व्यापक इंतजाम किए है। मजिस्ट्रेटों की डयूटी भी लगाई गई है। पहले चरण में कोरोना वैक्सीन की 27,410 हजार खुराक मिली है। जिला अस्पताल स्थित वैक्सीन स्टोर के पास कोरोना वैक्सीन आने पर जिलाधिकारी अजय शंकर पांडेय, सीएमओ डॉ.एनके गुप्ता एवं जिला प्रतिरक्षण अधिकारी विश्राम सिंह ने तालियां बजाकर स्वागत किया। वैक्सीन आते ही खिल उठे चेहरे: जिला एमएमजी अस्पताल में जैसे ही कोरोना वैक्सीन लेकर वाहन का प्रवेश हुआ, वैसे ही वहां उपस्थित अधिकारियों एवं कर्मचारियों के चेहरे खिल उठे। जिलाधिकारी अजय शंकर पांडेय समेत सभी अधिकारियों ने वैक्सीन वाहन का तालियां बजाकर अभिनंदन किया। इसके बाद वहां पहले से ही पूजा का थाल सजाकर बैठे स्वास्थ्यकर्मियों ने बाक्स खोलने से पहले पूजा की। पूजा करने वाले में डॉ. सुरूचि सैनी, अभिनव सिंह,सुजीत कुमार,परमेंदर नागर आदि शामिल थे। वैक्सीन तो खूब लाया,पर पहली बार हुआ गर्व:

वैक्सीन वाहन चलाने वाले 59 वर्षीय प्रेम सिंह को पहली बार गर्व महसूस हुआ है। मेरठ से कोरोना वैक्सीन लेकर एमएमजी अस्पताल पहुंचने पर शानदार स्वागत होने से वे गदगद दिखे। उन्होंने बताया कि सेवानिवृत्ति में केवल एक साल बचा है। स्वास्थ्य विभाग की कई वैक्सीन लाते-लाते दो दशक गुजर गए, लेकिन पहली बार लगा कि कुछ खास काम किया है। वह बताते हैं कि कभी बच्चों की वैक्सीन, तो कभी एंटी रैबीज वैक्सीन लाना रुटीन का कार्य रहता है। पहली बार वैक्सीन के लिए जाते समय कहीं जाम में रूकना नहीं पड़ा। दरअसल, पुलिस फोर्स की एस्कार्ट वाहन के पीछे वैक्सीन वाहन चल रहा था। वैक्सीन लेकर मेरठ से आने पर तो जगह-जगह यातायात जाम भी नहीं मिला। पुलिस ने पहले से ही वैक्सीन वाहन के रूट पर फोर्स लगा दी थी। प्रेम सिंह के चार बच्चे हैं और वह दिल्ली में रहते हैं। उनका कहना है कि सबसे पहले टीका लगवाने की अर्जी भी दे दी है। सात की जगह तीन केंद्रों पर लगेगा टीका: वैक्सीन आने के साथ ही प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा टीकाकरण केंद्रों की संख्या घटाने पर मंथन हो रहा है। जिले के सात केंद्रों पर टीकाकरण का पूर्वाभ्यास किया गया था, लेकिन बृहस्पतिवार देर शाम को सीएमओ डॉ.एनके गुप्ता ने बताया कि सात की जगह तीन केंद्रों पर वैक्सीन का टीका लगाने के इंतजाम किए जा रहे हैं। इनमें यशोदा अस्पताल, जिला महिला अस्पताल और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र डासना में कोरोना वैक्सीन के टीके लगेंगे। 16 जनवरी को शुरू होने वाले टीकाकरण के तहत 700 स्वास्थ्यकर्मियों को टीका लगेगा। एक केंद्र पर छह वैक्सीनेटर्स की टीम तैनात रहेगी। बाद में यशोदा कौशांबी, मैक्स वैशाली, शांति गोपाल इंदिरापुरम, ली क्रस्ट वसुंधरा और लोहिया नगर स्थित गायत्री अस्पताल में बनाए गए केंद्रों पर टीकाकरण होगा। 21 हजार स्वास्थ्यकर्मियों को टीका लगाने की योजना है। टीकाकरण केंद्रों पर भी सुरक्षा के इंतजाम रहेंगे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021