गोरखपुर, जेएनएन। गोरखपुर में कोरोना संक्रमितों के पाए जाने का सिलसिला जारी है। रविवार को 35 नए लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई। इनमें करीब एक महीने बाद बीआरडी मेडिकल कालेज की एक महिला डाक्टर में संक्रमित होने की बात सामने आई है। दो दिन पूर्व इनके पति भी संक्रमित मिल चुके हैं। इसके अलावा लगातार तीसरे दिन भी शहर के रहने वाले 56 वर्षीय एक व्यक्ति की मौत बीआरडी मेडिकल कॉलेज में हुई है। जिले में संक्रमितों की संख्या 19795 पहुंच गई है। इनमें 318 की मौत हो चुकी है। 19105 लोग ठीक हो चुके हैं। जबकि एक्टिव केस 372 रह गए हैं।

कम होने के बाद बढ़ने लगी संख्‍या 

नवंबर में मरीजों की संख्या लगातार कम हो रही है। रविवार को शहर में महज 19 कोरोना मरीज मिले हैं, इनमें शाहपुर, रामगढ़ताल, तिवारीपुर और गोरखनाथ थाना क्षेत्र में दो-दो, कैंट में नौ, कोतवाली व राजघाट में एक-एक में एक-एक संक्रमित मिले हैं। ग्रामीण क्षेत्र में केवल 11 मरीज मिले हैं। इनमें बांसगांव, बेलघाट, कौड़ीराम, खोराबार, सहजनवां में एक-एक, सरदारनगर दो, चरगांवा में चार मरीज मिले हैं। इसके अलावा पांच मरीज अलग-अलग थाना क्षेत्रों के हैं। सीएमओ डा. श्रीकांत तिवारी ने बताया कि संक्रमण की रफ्तार कम हो रही है। लोगों से अपील की जा रही है कि लोग मास्क और सैनिटाइजर का इस्तेमाल करते रहें।

गोरखपुर कोरोना मीटर : 22 नवंबर 2020

कुल केस/24 घंटे में --19795/35

सक्रिय केस/ 24 घंटे में--372/35

स्वस्थ हुए/ 24 घंटे में --19105/50

कुल मौतें/ 24 घंटे में- 318/01

कुल टेस्ट/ 24 घंटे में--347021/1788

बिना सलाह न करे इम्युनिटी बढ़ाने वाली दवाओं का प्रयोग

कोविड-19 के संक्रमण से बचने के लिए इन दिनों इम्युनिटी बढ़ाने का सिलसिला जोरशोर से चल पड़ा है। इसके लिए लोग तरह-तरह की दवाओं का इस्तेमाल कर रहे हैं। लेकिन डाक्टर इस तरह से इम्युनिटी बढ़ाने के प्रयास को स्वास्थ्य के लिए खतरा बता रहे हैं। उनका कहना है कि जरूरत से ज्यादा इम्युनिटी बढ़ाने वाले दवा लेने से मस्तिष्क रोग का खतरा हो सकता है। नसें प्रभावित हो सकती हैं, जिससे शहीर के कई अंगों में सुन्नपन और झनझनाहट की शिकायत हो सकती है। ऐसे मेें बिना डाक्टर के सलाह इम्युनिटी बढ़ाने के लिए किसी भी दवा या पदार्थ का इस्तेमाल न करें।

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस