जागरण संवाददाता, रानीखेत (अल्मोड़ा) : पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि उद्यान निदेशालय चौबटिया पूरे राज्य के साथ उत्तराखंडियत की बड़ी धरोहर है। कुमाऊं रेजिमेंट मुख्यालय की तरह चौबटिया निदेशालय व गार्डन रानीखेत की शान है। हम सत्ता में आए तो इस सरकार के उद्यान विरोधी सभी जनविरोधी फैसले पलट दिए जाएंगे।

गैरसैंण से लौटते वक्त हरदा रानीखेत में पार्टी पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं से मिले। पत्रकारों से वार्ता में उद्यान निदेशालय शिफ्ट किए जाने के मसले पर उन्होंने कहा कि उत्तराखंड के रूप में हमें छोटा राज्य मिल चुका है। धारणा और जरूरत है कि बागवानी व इससे जुड़े किसानों को प्रोत्साहित किया जाय। चौबटिया उद्यान निदेशालय को शिफ्ट करने का कोई औचित्य ही नहीं। कृषि व उद्यान विभाग के एकीकरण का कांग्रेस पुरजोर विरोध करती आ रही है। सत्ता में आए तो भाजपा सरकार की उद्यान विरोधी नीति को ही पलट देंगे।  

जो भी सेनापति बनेगा, साथ रहेंगे

पूर्व मुख्यमंत्री हरदा पार्टी पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं को एकजुटता का पाठ पढ़ा गए। 2022 के चुनाव के लिए सेनापति की घोषणा को वक्त की जरूरत बताते हुए दोहराया कि पार्टी हाईकमान जिसे भी सेनापति बनाएगी, सब मिलकर कांग्रेस को दोबारा सत्ता में लाने को ताकत लगाएंगे। इस मौके पर उपनेता प्रतिपक्ष करन सिंह माहरा, ब्लाक प्रमुख हीरा सिंह रावत भी साथ रहे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021