गौरव दुबे, अलीगढ़ : कोरोना काल के चलते मार्च से खेल गतिविधियों पर ब्रेक लगा हुआ है। इस ब्रेक को हटाते हुए एथलेटिक्स फेडरेशन ऑफ इंडिया (एएफआइ) ने देशभर के एथलीट्स को तीन खेलों में हुनर दिखाने की राह खोली है। 31 अक्टूबर को हुई एएफआइ की दो दिवसीय बैठक में ये फैसला लिया गया। एथलेटिक्स में 400 मीटर दौड़, वॉक रेस व भाला फेंक की प्रतियोगिताएं राष्ट्रस्तर से लेकर जिले तक हो सकती हैं, मगर इनके लिए शासन व स्थानीय प्रशासन से अनुमति लेना जरूरी होगा। एएफआइ ने इस संबंध में सभी स्टेट एसोसिएशन को पत्र भी जारी किया है। एथलेटिक्स में करीब दो दर्जन इवेंट होते हैं।

सुरक्षा मानक करने होंगे पूरे

प्रतियोगिता कराने पर सुरक्षा मानक पूरे करने होंगे। एएफआइ के अनुसार एथलीट कॉटन का मास्क पहनेंगे। खेलने के लिए कॉल रूम से सैनिटाइजेशन टनल से होकर मैदान पर जाएंगे। सैनिटाइजर भी साथ रखेंगे। अपनी कोविड-19 निगेटिव रिपोर्ट भी पेश करेंगे। भाला फेंक प्रतियोगिता में हर प्रयास के बाद भाले को सैनिटाइज किया जाएगा।

..........

लंबे समय बाद प्रतियोगिता में खेलने की किरण दिखी है। प्रैक्टिस कितनी भी कर लें, प्रतिभाग करने से ही खेल में निखार आता है। शानदार फैसला है।

आलिया राशिद, एथलीट भाला फेंक

घर पर व्यायाम व सड़क किनारे प्रैक्टिस करना उबाऊ हो गया था। जब सामने चैलेंज होता है, तभी प्रैक्टिस सफल होती है। बढि़या फैसला है।

मयूर राज, एथलीट 400 मीटर दौड़

एएफआइ की बैठक में फैसला किया गया है। शासन व प्रशासन की अनुमति मिलती है तो तीन इवेंट को प्रमोट करने के लिए प्रतियोगिताएं करा सकते हैं। सुरक्षा मानक भी पूरे करने होंगे।

आशुतोष भल्ला, उपाध्यक्ष, एएफआइ

यूपी एथलेटिक्स एसोसिएशन से पत्र प्राप्त हो गया है। यूपी संघ के जरिये शासन से अनुमति के लिए आवेदन किया जा रहा है। अनुमति मिली तो दिसंबर के मध्य तक तीनों इवेंट में प्रतियोगिताएं कराई जाएंगी।

शमशाद निसार आजमी, सचिव, जिला एथलेटिक्स संघ

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस