अलीगढ़: गभाना क्षेत्र के गांव कन्होई में पिता का साया उठ जाने के बाद खाने को मोहताज हुए दो बच्चों के लिए डीएम चंद्रभूषण सिंह मसीहा बन गए। डीएम ने न सिर्फ बच्चों को एक लाख रुपये देकर आर्थिक मदद की बल्कि बच्चों के बालिग न होने तक तहसीलदार गभाना को संरक्षक बनाया है। डीएम के इस पुनीत काम की ग्रामीणों ने मुक्त कंठ से प्रशंसा की है।

क्षेत्र के गांव कन्होई के रहने वाले श्यामपाल सिंह ओगर की गोशाला में चौकीदारी करते थे। पिछले दिनों लंबी बीमारी के चलते उनका निधन हो गया था। पत्नी सीमा देवी पर कमाई का कोई जरिया नहीं बचा, जिससे वह 12 वर्षीय बेटी कृष्णा तथा छह वर्षीय बेटे युवराज का लालन-पालन कर सके। रविवार को गोपाष्टमी पर्व पर ओगर नगला राजू स्थित गो आश्रय स्थल पर आयोजित कार्यक्रम के दौरान ग्रामीणों ने बरौली विधायक ठा. दलवीर सिंह को इस बारे में बताया, जिस पर विधायक ने बच्चों के लालन-पालन को लेकर डीएम को जानकारी दी। डीएम ने मामले को गंभीरता से लेते हुए बच्चों को एक लाख रुपये की आर्थिक मदद देने के साथ ही अन्य सरकारी योजनाओं का लाभ दिलाने के लिए अधिकारियों को निर्देशित किया। इस दौरान डीएम ने बताया कि जब तक दोनों बच्चे बालिग नहीं होते तब तक तहसीलदार गभाना को संरक्षक बनाया गया है। डीएम के इस पुनीत कार्य पर ग्रामीणों ने जमकर प्रशंसा की। इस मौके पर सीडीओ अनुनय झा, एसडीएम प्रवीण यादव, तहसीलदार रेशमा सहाय, विपिन कुमार सिंह, कुलदीप सिंह, बेबी सिंह प्रधान, नाहर सिंह आदि मौजूद रहे।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस