नई दिल्ली, जेएनएन। दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार में परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत से जुड़े ठिकानों पर छापेमारी में पाए गए दस्तावेज बड़े स्तर पर कर चोरी का संकेत दे रहे हैं। आयकर अधिकारियों का मानना है कि गहलोत ने जिस स्तर पर लेन-देन किया है, उससे लगभग 120 करोड़ रुपये की कर चोरी होने का अनुमान है। इस बीच आयकर विभाग के सूत्रों के मुताबिक, 28 लाख रुपये की कीमत और ज्वेलरी सीज की गई है। अब कुलमिलाकर 2 करोड़ की ज्वेलरी और 37 लाख रुपये कैश सीज किया जा चुका है।  ये 28 लाख रुपये की ज्वेलरी कैलाश गहलोत और उनकी पत्नी के लॉकर से बरामद हुई है। 

आयकर विभाग के सूत्रों का कहना है कि गहलोत और उनके संबंधियों के ठिकानों से बरामद दस्तावेजों की पड़ताल चल रही थी। इन दस्तावेजों से पता चलता है कि ऑफिस के चपरासी से लेकर कई कर्मचारियों को कर्ज दिया गया और मुखौटा कंपनियों (शेल कंपनियों) में उन्हें हिस्सेदारी दी गई। इसके अलावा कुछ ऐसे दस्तावेज भी मिले हैं, जिससे पता चलता है कि जनरल पावर ऑफ अटॉर्नी के माध्यम से अचल संपत्तियों में निवेश किया गया है। आयकर विभाग ने पिछले दिनों राजधानी दिल्ली और गुरुग्राम में गहलोत से संबंधित में 16 ठिकानों पर छापेमारी की थी। 

 

Posted By: JP Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस