जागरण संवाददाता, देहरादून। आमजन की शिकायतों के समाधान के लिए शुरू की गई सीएम हेल्पलाइन के दो वर्ष पूरे हो चुके हैं। इसी के साथ 51 हजार 248 शिकायतों का समाधान भी हेल्पलाइन (1905) के माध्यम से किया जा चुका है। वहीं, मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत हेल्पलाइन को सफल बनाने के लिए अथक प्रयास करने वाले अधिकारियों को पुरस्कृत करने की बात कही है। यह वह समाधान हैं, जिनके प्रति शिकायतकर्ताओं ने संतुष्टि भी व्यक्त की है। यह जानकारी मंगलवार को मुख्यमंत्री के आइटी सलाहकार रवींद्र दत्त ने साझा की।

आइटीडीए में पत्रकारों से रूबरू हुए आइटी सलाहकार रवींद्र दत्त ने कहा कि हेल्पलाइन 1905 कोरोना महामारी व प्राकृतिक आपदा समेत अन्य समस्याओं के समाधान के लिए जनता के लिए वरदान साबित हो रही है। जनता विभिन्न समस्याओं के लिए दफ्तरों के चक्कर न लगाए और एक फोन या वेबसाइट के माध्यम से उनकी समस्या का समाधान हो सके, इसी मकसद से यह सेवा शुरू की गई है। हेल्पलाइन में हिंदी, गढ़वाली, कुमाउंनी, पंजाबी व अंग्रेजी भाषा में समस्या दर्ज कराई जा सकती है। 

यह माध्यम सरकार और जनता के बीच सीधा संवाद भी कायम करता है। इस सेवा की अच्छी बात यह है कि 15 दिन के भीतर शिकायत का समाधान करना अनिवार्य किया गया है। हर माह आयुक्त गढ़वाल मंडल व कुमाऊं मंडल हेल्पलाइन में प्राप्त शिकायतों की समीक्षा भी करते हैं। वहीं, जिलों में संबंधित जिलाधिकारी शिकायतों की स्थिति पर नजर रखते हैं। पत्रकार वार्ता में अपर मुख्य सचिव राधा रतूड़ी भी उपस्थित रहीं।

यह भी पढ़ें- जल्द दूर होगी रेसकोर्स क्षेत्र की पेयजल समस्या, बहुआयामी पेयजल योजना का शिलान्यास

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप