जागरण संवाददाता, गुड़गांव :

गुमशुदा बच्चों की तलाश के लिए गुड़गांव पुलिस ने ऑपरेशन मुस्कान अभियान शुरू कर दिया है। बुधवार को पुलिस आयुक्त नवदीप सिंह विर्क ने अभियान की शुरुआत की। साल 2014 और 2015 के दौरान गायब हुए बच्चों में से 164 बच्चे अभी भी लापता है। एक महीने तक चलने वाले अभियान के दौरान गुड़गांव पुलिस प्रयास करेगी कि इनमें से अधिकतर बच्चों को ढूंढकर परिजनों तक पहुंचाया जा सके।

केंद्र सरकार व प्रदेश सरकार के निर्देश पर यह अभियान शुरू किया गया है। गुमशुदा बच्चों की पहचान कर उन्हे सहायता प्रदान करने के लिए यह अभियान है। एक से लेकर 31 जुलाई तक अभियान जारी रहेगा।

अपने कार्यालय में अभियान की शुरुआत करते हुए पुलिस आयुक्त नवदीप सिंह विर्क ने बताया कि सभी पुलिस कर्मचारियों, थाना प्रभारियों व अन्य संबंधित अधिकारियों को जरूरी निर्देश दिए गए हैं। अभियान के लिए इससे जुड़े स्टाफ को प्रशिक्षण दे दिया गया है। अभियान के दौरान शेल्टर होम, रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड, चौराहों, धार्मिक स्थलों के आसपास लावारिस/भीख मागने वाले बच्चों की प्रक्षिशित पुलिस कर्मचारियों द्वारा जाच की जाएगी। इन बच्चों को गुमशुदा बच्चों की श्रेणी में मानकर इनका रिकार्ड/फोटोग्राफ/विडियोग्राफी तैयार किए जाएंगे। इन बच्चों का विवरण महिला एवं बाल विकास मन्त्रालय की वेबसाइट के खोया- पाया पोर्टल पर अपलोड किया जाएगा ताकि बच्चों की पहचान हो सके।

इस अभियान के लिए ज्वाइंट सीपी सौरभ सिंह को सुपरवाइजर ऑफिसर व सहायक पुलिस आयुक्त मुख्यालय को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। जिला गुड़गांव में कुल 24 स्पेशल ज्यूनाइल प्रोटेक्शन यूनिट अर्थात् प्रत्येक थाना क्षेत्र के लिए एक-एक टीम बनाई गई है। इन टीमों के कर्मचारी इस प्रकार के बच्चों की तलाश करेंगे तथा उनसे मिलकर दोस्ताना व्यवहार करके उनसे उनके माता-पिता, पता व अन्य जानकारिया एकत्रित करेंगे । इन बच्चों की विस्तृत जानकारी एकत्रित करने के लिए प्रत्येक टीम को फार्म उपलब्ध कराया गया है जो कि फार्म में इन बच्चों की जानकारी भरकर गुड़गांव पुलिस की सीआरओ ब्रांच में देगें । ब्रांच में इन फार्मो द्वारा प्राप्त बच्चों की जानकारियों को इंटरनेट व अन्य पोर्टल पर अपलोड करेंगे और इन बच्चों को उनके परिजनों से चाइल्ड वेलफेयर कमिटी व शक्ति वाहिनी एनजीओ की मदद से मिलवाने का प्रयास करेगें ।

अभियान की टीम का बनाया वॉट्स एप ग्रुप

इस अभियान में लगाए गए अधिकारियों व टीमों के कर्मचारियों के लिए ऑपरेशन मुस्कान नाम से वॉट्स एप ग्रुप बनाया गया है ताकि एक दूसरे से जानकारिया त्वरित साझा कर सकें।

अधिकारियों को दे जानकारी

यदि किसी शहरवासी को ऐसा कोई बच्चा मिले तो वे अभियान से जुड़े अधिकारियों को फोन कर इसकी जानकारी दे सकते हैं। नोडल अफसर एसीपी हेडक्वार्टर अनिल कुमार ( मोबाइल नं. 9999981815), निरीक्षक हीरा सिंह (मोबाइल नं. 9416136366), पुलिस थाना, चौकी या पुलिस कन्ट्रोल रूम, चाइल्ड लाइन नंबर 1098 के माध्यम से सूचना दे सकते हैं।

इतने बच्चे शहर से हुए गायब

- 2014 में 295 नाबालिग गायब, 190 मिले, 105 नहीं मिले

- 2015 में अब तक 91 बच्चे गायब, 32 मिले, 59 नहीं मिले।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस