लखनऊ, जेएनएन। देश में जहां महाराष्ट्र, पंजाब और मध्य प्रदेश जैसे राज्यों में दोबारा कोरोना का संक्रमण बढ़ रहा है, वहीं यूपी में लगातार संक्रमण कम हो रहा है। बीते 15 दिनों में 32 फीसद कोरोना रोगी कम हुए हैं। नौ फरवरी को प्रदेश में 3,306 एक्टिव केस थे और अब यह घटकर 2,268 रह गए हैं। यानी 1,038 मरीज कम हुए हैं। हालांकि सीएम योगी आदित्यनाथ ने दूसरे राज्यों में बढ़ रहे कोरोना मामलों को देखते हुए अभी पूरी सर्तकता बरतने के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं। इस बीच राज्य में बीते चौबीस घंटों को दौरान 1.23 लाख लोगों का कोरोना टेस्ट किया गया तो 108 नए रोगी मिले। वहीं, 24 घंटे में 202 मरीज स्वस्थ भी हुए।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने दूसरे राज्यों में बढ़ रहे कोरोना मामलों को देखते हुए अभी पूरी सर्तकता बरतने के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि सभी जिलों में इंटीग्रेटेड कोविड कमांड सेंटर एंड कंट्रोल रूम में डीएम और सीएमओ दो बार बैठक करें। सीएम योगी ने कोरोना प्रोटोकाल का सख्ती से पालन किया जाएगा। उन्होंने कोविड टेस्टिंग और कांटेक्ट ट्रेसिंग पर पूरा जोर देने के निर्देश दिए हैं। कार्यालयों में कोविड-19 हेल्प डेस्क पूरी तरह सक्रिय रहें और अस्पतालों में व्यवस्था दुरुस्त रखी जाए। लोगों को दो गज की शारीरिक दूरी के नियम का सख्ती से पालन करने और सैनिटाइजेशन का काम समय-समय पर कराए जाने के भी निर्देश दिए। 

98.17 फीसद रिकवरी रेट : यूपी में बीते चौबीस घंटों को दौरान 1.23 लाख लोगों का कोरोना टेस्ट किया गया तो 108 नए रोगी मिले। यानी जितने लोगों की जांच की गई उसमें से केवल 0.08 प्रतिशत ही संक्रमित पाए गए। वहीं, 24 घंटे में 202 मरीज स्वस्थ हुए। अभी तक कुल 6.02 लाख लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं और इसमें से 5.91 लाख मरीज ठीक हो चुके हैं। रिकवरी रेट बढ़कर 98.17 फीसद हो गया है।

दो और मरीजों की हुई मौत : कोरोना संक्रमण से दो और लोगों की मौत हुई और अभी तक 8,718 लोगों की जान यह खतरनाक वायरस ले चुका है। अब एक्टिव केस 2,268 हैं। प्रदेश में बीते 24 घंटे में 43 जिलों में एक भी संक्रमित व्यक्ति नहीं मिला। महाराजगंज में अब कोई भी कोरोना का मरीज नहीं है। 25 जिलों में इस समय 10 से कम रोगी हैं। प्रदेश में अभी तक तीन करोड़ लोगों का कोरोना टेस्ट किया जा चुका है।

संक्रमित मिले रोगियों में से 10 फीसद की होगी जीनोम सिक्वेंसिंग : देश में महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश व पंजाब सहित पांच राज्यों में तेजी से बढ़ रहे कोरोना संक्रमण को देखते हुए यूपी सरकार बचाव के कड़े उपाय कर रही है। कोरोना संक्रमण की रफ्तार धीमी होने के बावजूद वह किसी भी तरह की ढ़िलाई नहीं बरतना चाहती। स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह ने बताया कि प्रतिदिन मिलने वाले कोरोना संक्रमित मरीजों में से 10 प्रतिशत की जीनोम सिक्वेंसिंग कराई जाएगी। जीनोम सिक्वेंसिंग के माध्यम से नए स्ट्रेन का पता चलता है। प्रदेश में बीते दिसंबर अंतिम सप्ताह से लेकर जनवरी मध्य तक नए स्ट्रेन से संक्रमित 17 मरीज मिले थे, लेकिन बेहतर कोविड-19 प्रबंधन के चलते मरीज स्वस्थ हो गए और तब से कोई नया रोगी भी सामने नहीं आया।

केजीएमयू व आइजीआइबी लैब भेजे जाएंगे सैंपल : जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए पॉजिटिव मरीजों का सैंपल राजधानी लखनऊ में स्थित किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (केजीएमयू) और जरूरत पड़ने पर नई दिल्ली में स्थित इंस्टीट्यूट ऑफ जीनोमिक्स एंड इंटीग्रेटिव बायोलॉजी (आइजीआइबी) की लैब में जांच के लिए भेजे जाएंगे। मंगलवार को प्रदेश में कोरोना से संक्रमित 108 रोगी मिले यानी इसमें से 11 संक्रमितों की जीनोम सिक्वेंसिंग होगी। ऐसे ही प्रतिदिन मिलने वाले मरीजों में से 10 फीसद की जीनोम सिक्वेंसिंग कराई जाएगी। कोरोना के नए स्ट्रेन को लेकर सरकार पूरी तरह अलर्ट है।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप