मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

लाहौर। आंतकवाद से परेशान पाकिस्तान में तीन साल बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की वापसी होगी। बांग्लादेश ने इस महीने के अंत में एक वनडे और एक ट्वेंटी-20 मैच के लिए पाकिस्तान का दौरा करने पर सहमति जता दी है। श्रीलंकाई क्रिकेट टीम पर यहां मार्च, 2009 में हुए आंतकी हमले के बाद किसी भी टीम ने पाकिस्तान का दौरा नहीं किया है। इस हमले में छह श्रीलंकाई खिलाड़ी घायल हो गए थे, जिसमें इतने ही सुरक्षाकर्मियों की और दो लोगों की मौत हो गई थी।

कार्यक्रम के अनुसार वनडे मैच 29 अप्रैल और टी-20 मैच 30 अप्रैल को होगा। दोनों मैच गद्दाफी स्टेडियम में खेले जाएंगे। पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड [पीसीबी] ने बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड [बीसीबी] के अध्यक्ष मुस्तफा कमाल का बयान जारी किया, जिसमें कहा गया है, 'मैं इस दौरे की पुष्टि करके काफी खुश हूं। मैं जानता हूं कि पीसीबी के लिए यह दौरा कितना महत्वपूर्ण है। इससे उनके देश में क्रिकेट शुरू हो जाएगा। पाकिस्तान के लोगों से क्रिकेट को दूर कर दिया गया और हमें लगता है कि हमें उनका सहयोग करना चाहिए।' कमाल ने कहा, 'जब हम सुरक्षा का मुआयना करने लाहौर और कराची गए, हमारा स्वागत शानदार था।'

पीसीबी अध्यक्ष जका अशरफ ने कहा कि पीसीबी पिछले साल से आइसीसी और सदस्य बोर्ड को मनाने की कोशिश कर रहा है कि वे पाकिस्तान में टीमें भेजें। अशरफ ने कहा, 'बांग्लादेश का यह दौरा हमें अन्य बोर्ड को मनाने में मदद करेगा कि पाकिस्तान में खेलना सुरक्षित है।' बोर्ड के सीनियर अधिकारी ने कहा, 'बांग्लादेश के दल ने जब पाकिस्तान का दौरा किया था, तो वे हमारे सुरक्षा इंतजामों से संतुष्ट थे। उम्मीद है कि एक बार वे यहां आ जाएंगे, तो हम अन्य टीमों को भी पाकिस्तान आने के लिए राजी कर सकते हैं।'

'मैं इस दौरे के मद्देनजर बीसीबी और बांग्लादेश सरकार की मदद के लिए शुक्रिया अदा करना चाहता हूं। निश्चित रूप से यह टूर हमारे लिए काफी अहम है और यह दौरे को सफल बनाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ेंगे।'

जका अशरफ [पीसीबी अध्यक्ष]

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप