कोसिली (तुर्की)। पूर्व अंडर-14 विश्व चैंपियन और ग्रैंडमास्टर विदित गुजराती ने तुर्की में संपन्न 13वें और अंतिम दौर में चीन के विजेता यू यांग्यी के साथ ड्रॉ खेलने के बाद गुरुवार को विश्व जूनियर शतरंज चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीता।

पढ़ें: यूवी के बल्ले ने चयनकर्ताओं को फिर कहा 'रोक सको तो रोक लो'

इसके साथ ही गुजराती उन भारतीयों की सूची में शामिल हो गए हैं जिन्होंने वि जूनियर शतरंज चैंपियनशिप में पदक जीता है। सबसे पहले इसकी शुरुआत विश्वनाथन आनंद ने 1987 में स्वर्ण पदक जीतकर की थी। इसके बाद हरिकृष्णा ने 2004 में स्वर्ण पदक, अभिजीत गुप्ता ने 2008 में स्वर्ण पदक और 2011 में सहज ग्रोवर ने कांस्य पदक जीता था। चीन के यांग्यी ने स्वर्ण पदक जीता जबकि रजत पदक पिछले साल के विजेता तुर्की के एलेक्जेंडर इपातोव ने जीता। उन्होंने अंतिम दौर में सर्बिया के एलेंक्जेंडर इंडजिक को हराकर यह पदक जीता।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप