नई दिल्ली। भारतीय महिला हॉकी टीम को जापान के काकामिघारा में एशियाई चैंपियंस ट्रॉफी के खिताबी मुकाबले में शनिवार को जापान के हाथों 0-1 की शिकस्त के साथ रजत पदक से संतोष करना पड़ा।

भारत शुरुआत में ही पिछड़ गया जब मैच के दूसरे ही मिनट में ओत्सुका शिहो ने पेनाल्टी कॉर्नर को गोल में बदलकर मेजबान टीम को बढ़त दिला दी। भारत को आठवें मिनट में बराबरी हासिल करने का मौका मिला, जब उसे पहला पेनाल्टी कॉर्नर मिला। टीम ने हालांकि इस मौके को गंवा दिया।

पढ़ें: क्रिकेट से जुड़ी खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

गोलकीपर सविता की अगुआई में भारतीय रक्षापंक्ति नेच्अच्छा प्रदर्शन किया। जापान को अगले 10 मिनट में तीन और पेनाल्टी कॉर्नर मिले, लेकिन भारतीय रक्षण ने उनके सारे हमले नाकाम कर दिए। भारतीय टीम ने मध्यांतर के बाद वापसी की कोशिश की। टीम ने कुछच्अच्छे मौके बनाए, लेकिन अग्रिम पंक्ति की खिलाड़ियों ने निराश किया।

गोलकीपर सविता अगर शानदार प्रदर्शन नहीं करतीं तो भारत की हार का अंतर अधिक होता। उन्होंने 50वें मिनट में भी पेनाल्टी कॉर्नर पर शानदार बचाव करते हुए जापान को बढ़त दोगुना करने से रोका। भारत ने जापान को कड़ी चुनौती दी, लेकिन टीम बराबरी का गोल नहीं दाग सकी। भारतीय लड़कियों ने इस टूर्नामेंट में शानदार प्रदर्शन करते हुए अपने से ऊंची वरीय चीन को 4-2 और मलेशिया को 5-1 से शिकस्त दी थी। लेकिन जापान के खिलाफ उसे लीग मैच में 1-2 से हार का सामना करना पड़ा था।

चार टीमों की इस प्रतियोगिता में जापान को स्वर्ण पदक, जबकि मलेशिया को कांस्य पदक मिला। टूर्नामेंट की तीसरी टीम चीन की थी जिसे कांस्य पदक के प्ले ऑफ मुकाबले में मलेशिया के हाथों 1-3 से शिकस्त का सामना करना पड़ा।

------------------------------

रजनी बनी सर्वश्रेष्ठ गोलकीपर

भारत की गोलकीपर रजनी इतिमारपू को टूर्नामेंट में सर्वश्रेष्ठ गोलकीपर के पुरस्कार से नवाजा गया। भारत को इसके अलावा फेयर प्ले ट्रॉफी भी मिली।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर