न्यूयार्क। जापान के केई निशिकोरी ने दुनिया के दूसरे नंबर के खिलाड़ी ब्रिटेन के एंडी मरे को हराकर बड़ा उलटफेेर करते हुए यूएस ओपन टेनिस के सेमीफाइनल में प्रवेश कर लिया। वह ग्रैंडस्लैम जीतने वाले पहले एशियाई खिलाड़ी बनने से अब सिर्फ दो जीत दूर हैं। निशिकोरी ने बुधवार को एक रोमांचक मैच में विंबलडन और ओलंपिक चैंपियन और 2012 यूएस ओपन चैंपियन मरे को 1-6, 6-4, 4-6, 6-1, 7-5 से हराया।

अब वह तीसरी वरीयता प्राप्त स्टान वावरिंका से खेलेंगे। वावरिंका ने 2009 के चैंपियन अर्जेंटीना के जुआन मार्टिन डेल पोत्रो को हराकर साल के अंतिम ग्रैंडस्लैम के सेमीफाइनल में जगह बनाई। पहले सेमीफाइनल में गत चैंपियन नोवाक जोकोविक 10वीं वरीयता प्राप्त फ्रांस के गाइल मोंफिल्स से भिड़ेंगे।

वावरिंका ने क्वार्टर फाइनल में पोत्रो को 7-6, 4-6, 6-3, 6-2 से हराया। वावरिंका ने कुल 53 विनर्स लगाए जिनमें 10 ऐस शामिल रहे। वावरिंका और निशिकोरी के बीच अब तक कुल पांच बार भिड़ंत हुई है, जिनमें से तीन में स्विस खिलाड़ी और दो में जापानी खिलाड़ी की जीत हुई है।

विश्व रैंकिंग में 142वें स्थान पर काबिज डेल पोत्रो पिछले 16 साल में ग्रैंडस्लैम सेमीफाइनल में पहुंचने वाले सबसे निचली रैंकिंग वाले खिलाड़ी बनने की कोशिश कर रहे थे। इससे पहले 2000 में ब्लादीमिर वोल्शकोव विंबलडन के अंतिम चार में पहुंचे थे, जिनकी रैंकिंग 237 थी।

मरे और निशिकोरी के बीच क्वार्टर फाइनल मुकाबला करीब तीन घंटे, 57 मिनट तक चला। यह मुकाबला पांच सेट में खेला गया। मैच के दौरान 17 सर्विस टूटीं। यह मरे के खिलाफ निशिकोरी की आठ मैचों में कुल दूसरी जीत है। इस साल बेहद सफल रहे मरे ने लगातार सात टूर्नामेंटों के फाइनल में जगह बनाई थी। पिछली बार निशिकोरी 2014 में इस टूर्नामेंट के सेमीफाइनल तक पहुंचे थे, लेकिन उन्हें फाइनल में क्रोएशिया के मारिन सिलिक से हार का सामना करना पड़ा था।

खेल की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: sanjay savern

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप