भरमौर, संवाद सहयोगी। Manimahesh Yatra 2022, उत्तर भारत की प्रसिद्ध मणिमहेश यात्रा के दौरान जन्माष्टमी के पावन पर्व पर वीरवार रात 9.20 बजे के बाद से आस्था की डुबकी लगेगी। पंडित विपिन शर्मा के अनुसार जन्माष्टमी के छोटे स्नान का शुभ मुहूर्त वीरवार रात 9.22 बजे शुरू होगा जोकि 19 अगस्त रात 11 बजे तक रहेगा। ऐसे तो डल झील में हर रोज हजारों श्रद्धालु आस्था की डुबकी लगा रहे हैं लेकिन जन्माष्टमी के पावन पर्व पर मुहूर्त के दौरान 26 घंटे से भी अधिक समय तक डुबकी लगाने का समय मिलेगा। पहले से ही यात्रा पर जाने का मना बना चुके कई श्रद्धालुओं ने खराब मौसम के चलते यात्रा टाल दी है, बावजूद इसके भी जम्मू कश्मीर, पंजाब सहित कई अन्य क्षेत्रों से भारी संख्या में श्रद्धालु यात्रा पर पहुंच रहे हैं। खराब मौसम को देखते हुए प्रशासन ने श्रद्धालुओं से यात्रा पर जाने की अपील की है।

कठिन है मणिमहेश की डगर

मणिमहेश डल झील पर पहुंचने के लिए श्रद्धालुओं को 13 किलोमीटर का पैदल ट्रैक लांघना पड़ता है। इस खड़ी चढ़ाई भरे पैदल ट्रैक की डगर काफी कठिन है। मार्ग में हर जगह भूस्खलन व पत्थर गिरने व पैर फिसलने का भी खतरा रहता है। वहीं मार्ग खराब होने के साथ जगह-जगह बह रहे नाले भी बरसात में उफान पर रहते हैं। इससे श्रद्धालुओं को आने-जाने में काफी दिक्कतें झेलनी पड़ती हैं। इस सबके बावजूद भी भागवान भोलेनाथ के प्रति लोगों की आस्था डगर को सुगम बना देती है।

यात्रा को लेकर प्रशासन ने पुख्ता प्रबंध किए हैं लेकिन खराब मौसम को देखते हुए कोई भी श्रद्धालु जान जोखिम में डालकर आगे बढऩे की कोशिश न करे। किसी भी तरह की आपदा व परेशानी होने पर प्रशासन द्वारा जारी टोल फ्री नंबर पर संपर्क करें।

-डीसी राणा, उपायुक्त चंबा

Edited By: Virender Kumar