रामपुर, (मुस्‍लेमीन)। Samajwadi Party will protest in support of Azam Khan: सपा नेता आजम खां पर दो और मुकदमे दर्ज होने से यूपी की सियासत गरम हो गई है। सपा इसको लेकर रणनीति तैयार कर रही है। वहीं आजम खां के बेटे अब्‍दुल्‍ला आजम ने भी इसे लेकर बड़े आंदोलन के संकेत दिए हैं। अब्‍दुल्‍ला ने कार्यकर्ताओं के साथ बैठक कर कहा कि अगर न्‍याय न मिला तो आंदोलन का रास्‍ता चुना जाएगा। 

गुरुवार रात सपा कार्यालय पर हुई बैठक में आजम खां के बेटे स्वार टांडा विधान सभा क्षेत्र से विधायक अब्दुल्ला आजम ने कार्यकर्ताओें से कहा कि वह आंदोलन के लिए तैयार रहें। उन्होंने कहा कि पार्टी का एक प्रतिनिधि मंडल शीघ्र डीजीपी से मिलने लखनऊ जाएगा, जिसमें दर्ज मुकदमों को वापस लेने की मांग की जाएगी। मांग पूरी नहीं होने पर पार्टी आंदोलन करेगी।

इससे पहले आजम पर दर्ज हो रहे मुकदमों को गलत बताते हुए गुरुवार दोपहर उनके बेटे विधायक अब्‍दुल्‍ला आजम ने मुरादाबाद में डीआइजी शलभ माथुर से मुलाकात की। उनके साथ मुरादाबाद के सांसद एसटी हसन समेत कई विधायक रहे। अब्‍दुल्‍ला ने कहा कि आजम खां बीमार हैं, वह किसी को धमकी कैसे दे सकते हैं। दर्ज कराए जा रहे मुकदमे पूर्णत: गलत है। उन्‍होंने डीआइजी से जांच कराकर कार्रवाई की मांग की। 

आजम खां के खिलाफ पहले से 91 मुकदमे चल रहे हैं। साल 2019 में उनके और उनके करीबियों के खिलाफ बड़े पैमाने पर मुकदमे दर्ज कराए गए थे। उनकी पत्नी पूर्व सांसद डा. तजीन फात्मा के खिलाफ 34, बेटे विधायक अब्दुल्ला आजम के खिलाफ 43 और बड़े बेटे अदीब आजम के खिलाफ 32 मुकदमे दर्ज हैं।

आजम खां के खिलाफ अब 93 मुकदमे हो चुके हैं,। पहले जो मुकदमे दर्ज कराए गए थे, उनमें पुलिस ने चार्जशीट दाखिल कर दी। अब ये मुकदमे अदालत में विचाराधीन हैं। अदालत में गवाही की प्रक्रिया चल रही है। दो मुकदमों के वादकारियों ने ही अब फिर आजम खां और उनके करीबियों के खिलाफ धमकाने के मुकदमे लिखाए हैं।

एक मामला बेरियान मुहल्ले के नन्हे ने शहर कोतवाली में दर्ज कराया है, जिसमें पूर्व मंत्री आजम खां के कहने पर चार-पांच अज्ञात लोगों द्वारा धमकाने का आरोप है। शहर कोतवाल गजेंद्र पाल त्यागी का कहना है कि आरोपितों की सुरागरसी की जा रही है। पहचान होते ही साक्ष्य एकत्र कर कार्रवाई की जाएगी।

दूसरा मुकदमा गंज कोतवाली में अबरार ने दर्ज कराया है, उसने भी आरोप लगाया है कि आजम खां और पूर्व पालिकाध्यक्ष के करीबी उनके घर आए और अदालत में आजम खां के खिलाफ गवाही न देने की धमकी दी। गंज कोतवाल रविंद्र पाल सिंह का कहना है कि आरोपितों पर जो आरोप लगाए गए हैं, उसके बारे में सबूत जुटाए जा रहे हैं। इसके बाद ही गिरफ्तारी के प्रयास किए जाएंगे।

सात साल तक की सजा

आजम खां के खिलाफ दो नए मामलों में जो धाराएं लगाई गई हैं, उनमें भी सात साल तक की सजा का प्रविधान है। नन्हे ने जो मुकदमा कराया , उसमें धारा 147, 195-A, 506 और 120-B लगी है। अबरार ने जो मुकदमा दर्ज कराया है, उसमें धारा 452, 504, 506, 147, 195 -A और 120-B है। इसमें धारा 452 संज्ञेय अपराध है, इसमें सात साल तक की सजा हो सकती है। इसमें समझौता भी नहीं हो सकता।

धारा 195-A में भी सात साल तक की सजा का प्रावधान है। धारा 120-B में अपराध करने वाले के बराबर सजा मिलेगी, जबकि धारा 147, 504 व 504 में दो-दो वर्ष तक की सजा हो सकती है।

Edited By: Vivek Bajpai

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट