रामगढ़वा (पूर्वी चंपारण), संवाद सहयोगी। उत्तर प्रदेश के फतेहपुर में एटीएस के हत्थे चढ़ा आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का सक्रिय सदस्य रक्सौल अनुमंडल के रामगढ़वा प्रखंड के अधकपरिया गांव निवासी हबीबुल इस्लाम उर्फ सैफुल्लाह चार भाइयों में तीसरे नंबर पर है। उसके पिता जफरुल इस्लाम फतेहपुर स्थित एक मस्जिद में इमाम हैं। ग्रामीणों ने बताया कि जफरुल की गांव में महज चार कट्ठा पुश्तैनी खेती है। उसे बंटाई पर दिया है। तीन कमरों का पक्का मकान है। करीब 12 वर्ष पहले गांव छोड़ कानपुर चले गए थे। वहीं बेटों को शिक्षा दिलाई। ग्रामीण मोहम्मद हसनैन, तौहीद आलम और नफीस रहमान ने बताया कि सैफुल्लाह के परिवार की आर्थिक स्थिति बहुत मजबूत नहीं है। समय-समय पर उनका परिवार यहां आता रहता है। सैफुल्लाह बीते कई वर्षों से यहां नहीं आया है।

यासीन भटकल यहीं से हुआ था गिरफ्तार

सैफुल्लाह का घर नेपाल सीमा से करीब 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह मुस्लिम बहुल इलाका है। नेपाल के रास्ते आतंकी गतिविधियों के लिए यह सीमा काफी मुफीद रही है। रक्सौल सीमा से आतंकी संगठन इंडियन मुजाहिदीन का मास्टरमाइंड यासीन भटकल और असदुल्लाह अख्तर उर्फ हड्डी सहित अन्य को पकड़ा जा चुका है। यही कारण है कि सैफुल्लाह की गिरफ्तारी की सूचना के बाद सुरक्षा एजेंसियां अलर्ट हैं। उसका कनेक्शन नेपाल व बिहार के सीमावर्ती जिलों में तलाश रही हैं। रामगढ़वा थानाध्यक्ष इंद्रजीत पासवान ने बताया कि अभी तक प्रशासनिक स्तर पर मुझे कोई सूचना नहीं है।  

Edited By: Ajit Kumar