अयोध्या, जागरण संवाददाता। जम्मू से नौ अगस्त को शुरू अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा की रथयात्रा 48 दिनों का लंबा सफर तय कर रविवार को अयोध्या पहुंची। रात्रि विश्राम के बाद यात्रा सोमवार की सुबह दिल्ली के लिए रवाना होगी। सात अक्टूबर को महासभा के पदाधिकारी दिल्ली के राजघाट पहुंचेंगे। जंतर मंतर पर सभा के बाद राष्ट्रपति व प्रधानमंत्री को संबोधित पांच सूत्री मांग पत्र सौंपा जाएगा। 

यात्रा का नेतृत्व कर रहे महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष महेंद्र सिंह तंवर ने होटल शान-ए-अवध में संयोजक रामकेर सिंह के साथ प्रेसवार्ता में कहा कि यह संगठन की तीसरी रथयात्रा है। महासभा सभी वर्गों की तरफ से केंद्र सरकार से मांग कर रहा है कि संविधान में संशोधन कर आर्थिक आधार पर आरक्षण लागू किया जाए, तब तक के लिए वर्तमान आर्थिक आधार पर 10 प्रतिशत आरक्षण का दायरा बढ़ाया जाए। 

इतिहास से छेड़छाड़ पर लगे रोक

उन्होंने कहा कि क्षत्रिय महापुरुषों के इतिहास से हो रही छेड़छाड़ को तुरंत रोका जाए। सामाजिक समानता लाने के लिए जातिगत भेदभाव को समाप्त कर लोगों में परस्पर प्रेम, सौहार्द बढ़ाने के लिए एवं सभी वर्गों में एकता स्थापित करने के लिए शांतिपूर्ण सह अस्तित्व, आत्मीयता, समन्वय, सर्वहित व समूह चेतना के माध्यम से समरसता की भावना पैदा की जाए। 

एससी एसटी एक्ट का दुरुपयोग हो बंद

उन्होंने कहा कि एससी एसटी एक्ट का दुरुपयोग बंद करने के साथ ही सरकार भ्रष्टाचार को समाप्त कर कृषि को कर मुक्त करे। साथ ही किसानों की उपज का न्यूनतम मूल्य निर्धारित कर करोड़ों बेरोजगार युवकों को रोजगार उपलब्ध कराए। 

जगह-जगह हुआ रथयात्रा का स्वागत

उन्होंने बताया कि रथयात्रा का हर वर्ग के लोगों ने जगह-जगह स्वागत किया। यात्रा में शामिल ग्रुप कैप्टन डा. जयपाल सिंह चौहान, बालमुकुंदाचार्य, धर्मपाल नेगी, राम दयाल नेगी, मानसिंह मेहता, भागसिंह चंदेल, मनीष सिंह, भगत शास्त्री, मनोहर सिंह चंदेल आदि पत्रकार वार्ता में मौजूद रहे।

Edited By: Ganesh Srivastava

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट