लखनऊ, जागरण संवाददाता। पिछले दो वर्षों की कोरोना की बंदिशों से निजात मिलने के बाद इस बार रक्षाबंधन पर बाजार गुलजार रहा। बुधवार से लेकर शुक्रवार तक मिठाईंंयों की जमकर बिक्री हुई और कारोबारियों के चेहरे भी चमक उठे। बहनों ने भाइयों के लिए मनपसंद मिठाई खरीदी। तीन दिन के भीतर ही शहर में लगभग 20 से 25 करोड़ रुपये की मिठाई बिक गई।

रक्षाबंधन को लेकर मिठाई कारोबारियों ने एक सप्ताह पहले से तैयारी शुरू कर दी थी। बुधवार की शाम से मिठाई की दुकानों पर भीड़ लगने लगी थी। बृहस्पतिवार की शाम और शुक्रवार की सुबह भी मिठाई की दुकानों में रौनक थी। चंद्रकला, मलाई पान, काजू की बर्फी और मिक्स मिठाई की मांग सबसे अधिक रही। लोगों को मेवा बाइट का स्वाद भी खूब भाया। साथ ही अलग-अलग प्रतिष्ठानों पर ढाई से तीन हजार रुपये में बिकने वाली पिस्ता बर्फी, अंजीर बर्फी और काजू कलश भी लोगों को पसंद आया।

50 हजार रुपये किलो वाली मिठाई भी बिकी : शहर की एक प्रतिष्ठित दुकान में मिठाई की कीमत 50 हजार रुपये प्रति किलो भी है। एक्जाटिका मिठाई का चार पीस का बाक्स दो हजार रुपये का आता है। रक्षाबंधन पर एक ग्राहक ने एक्जाटिका के 25 पीस बुक कराए थे। 25 पीस एक्जाटिका की कीमत 12,500 रुपये हुई। जानकारी के अनुसार, इस मिठाई को बनाने में 24 कैरेट गोल्ड के साथ ही विदेश से मंगाए गए ड्राइफ्रूट का इस्तेमाल किया जाता है।

दस करोड़ का हुआ राखी कारोबार : रक्षाबंधन पर इस बार दस करोड़ का राखी कारोबार हुआ। थोक बाजार यहियागंज में जुलाई माह के अंतिम सप्ताह से ही बाजार सज गया था। बहार से दुकानदार आकर राखी खरीदने आ रहे थे। थोक विक्रेता अनूप गुप्ता और संजय रस्तोगी ने बताया कि कारोबार उम्मीद से हल्का रहा। आनलाइन के कारण कारोबार पर असर पड़ा। बताया कि 20 से 25 करोड़ के आसपास का कारोबार होने की उम्मीद थी, मगर दस करोड़ के आसपास ही थोक बाजार में बिक्री हुई।

Edited By: Vrinda Srivastava

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट