करनाल, जागरण संवाददाता। हरियाणा में एक बार फिर से बारिश शुरू हो चुकी है। कई जिलों में अलर्ट भी है। मौसम के उतार-चढ़ाव के बीच अगस्त के पहले पखवाड़े में मिली-जुली स्थिति देखने को मिल रही है। अगले कुछ समय तक यही सिलसिला जारी रहने की संभावना है।

करनाल, पानीपत में अच्छी बरसात के चलते तापमान में आई गिरावट से मौसम सुहावना हो गया। इससे लोगों को गर्मी और उमस से आंशिक राहत का एहसास हुआ। वहीं देश में मौसम के मौजूदा हाल की बात करें तो उत्तर पश्चिम बंगाल की खाड़ी, पश्चिम बंगाल और उत्तरी ओडिशा के आसपास के तटीय क्षेत्रों पर अवसाद की स्थिति है।

15 अगस्त को पूर्वी मध्य प्रदेश, झारखंड, विदर्भ, छत्तीसगढ़ और तेलंगाना में अलग-अलग जगह गरज या बिजली के साथ व्यापक वर्षा के आसार हैं। 16 अगस्त को कोंकण, गोवा, उत्तर मध्य महाराष्ट्र और पश्चिम मध्य प्रदेश, 16-17 अगस्त को गुजरात और 18 अगस्त तक ओडिशा में अच्छी वर्षा संभावित है। छत्तीसगढ़ में भी कुछ स्थानों पर भारी वर्षा की संभावना है।

वहीं मौसम विभाग के पूर्वानुमान के अनुरूप निम्न दबाव का क्षेत्र एक डिप्रेशन में बदलने के साथ भारतीय उपमहाद्वीप में पश्चिम-उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ा है। इसके चलते भारत के मध्य भागों में मानसून की स्थिति बनी रह सकती है। 16 अगस्त तक उत्तर पश्चिमी भारत में अच्छी वर्षा के आसार हैं। इसके बाद बचे हुए अच्छी तरह से चिह्नित निम्न दबाव क्षेत्र के उत्तर और उत्तर-पूर्व की ओर बढऩे के साथ ही धीरे-धीरे कमजोर होने और भारतीय क्षेत्र के लिए कम महत्वपूर्ण बनने की संभावना है।

दूसरी ओर, मानसून ट्रफ भी अभी सक्रिय है और अपनी सामान्य स्थिति के दक्षिण में स्थित है। अब पांच दिन के दौरान मानसून ट्रफ के सक्रिय होने और अपनी सामान्य स्थिति के आसपास दोलन करने की संभावना है। उत्तर-पश्चिम के ऊपर के डिप्रेशन से लेकर उत्तर-पूर्व अरेबियन सीटो दक्षिण राजस्थान में समुद्र तल से 3.1 किमी और 4.5 किमी के बीच चलती है।

फिलहाल दक्षिण-पश्चिम उत्तर प्रदेश में कहीं छिटपुट तो कहीं व्यापक वर्षा के साथ बारिश और बादल गरजने या बिजली गिरने की संभावना है। 15 अगस्त को पश्चिमी ओडिशा में भारी वर्षा के साथ वर्षा की तीव्रता में कमी आएगी।

Edited By: Anurag Shukla