संवाद सहयोगी, बमियाल: सीमावर्ती क्षेत्र बमियाल में रेत बजरी लेकर चलने वाले ओवरलोड वाहन आए दिन दुर्घटनाओं का सबब बन रहे हैं, जिनकी वजह से लोगों को भी दिक्कत का सामना करना पड़ता है। मंगलवार रात को बमियाल के निकट बजरी से भरा एक ओवरलोड ट्राला पलट गया। इसके चलते रेत बजरी ले कर जाने वाले दर्जनों वाहनों की कतार सड़क किनारे लग गई। राहगीरों को भी परेशानी का सामना करना पड़ा।

वहीं, जब बमियाल के पास एक ट्राला पलटने के बावजूद फिर उसी रोड पर से दोबारा ओवरलोड वाहनों के चलते दिखाई दिए तो क्षेत्रवासियों ने रोष जताते हुए प्रशासन के खिलाफ जमकर रोष प्रदर्शन और नारेबाजी की। दुकानदार रवि कुमार, मक्खन कुमार, जोगिदर कुमार, अमित कुमार आदि ने बताया कि रेत-बजरी से संबंधित वाहन चालक यहां सरेआम नियमों की धज्जियां उड़ा रहे हैं। ये मनमर्जी से कहीं भी वाहन खड़ कर देते हैं। इस कारण अन्य वाहन चालकों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। दुर्घटना का भी अंदेशा लगा रहता है। उन्होंने बताया कि प्रशासन ने खनन से जुड़े वाहनों के आने-जाने के लिए समय रात के समय निश्चित किया हुआ है। इसके बावजूद सरेआम दिन में ये ओवरलोड वाहन सड़कों पर घूमते रहते हैं। इसी कारण एरिया में हादसों का ग्राफ भी बढ़ा है। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि इस संबंधी जब माइनिग विभाग को सूचित किया जाता है तो संबंधित कर्मचारी व अधिकारी लोगों के फोन तक नहीं उठाते।

लोगों का रोष देख अधिकारी भी पहुंचे मौके पर

उधर, मामले को तूल पकड़ता देख और मामले की भनक लगने के बाद माइनिंग विभाग के अधिकारी अंकुश चौधरी एवं पुलिस थाना नरोट जैमल सिंह प्रभारी दीपक कुमार भी मौके पर पहुंचे। ओवरलोड वाहनों को साइड पर खड़ा करवाकर उनके कागजात चेक किए। जिम्मेदारों के फोन बंद, थाना प्रभारी बोले- सिर्फ दस्तावेज चेक करने आए हैं

माइनिग विभाग के अधिकारी एवं इरीगेशन विभाग के एसडीओ अंकुश चौधरी से संपर्क करना चाहा, लेकिन बार-बार फोन करने पर भी उनका फोन व्यस्त रहा। सूत्रों की माने तो विभाग के जेई सुखदीप सिंह ने तो लोगों के फोन ही ब्लैक लिस्ट में लगा दिए हैं। थाना नरोट जैमल सिंह के प्रभारी दीपक कुमार ने बताया कि माइनिग विभाग के अधिकारियों की ओर से खनन से जुड़े वाहनों के दस्तावेज की जांच के लिए पहुंचे थे इससे अधिक उन्हें जानकारी नहीं है।

लोग बोले- ओवरलोड वाहनों पर की जाए कार्रवाई

क्षेत्रवासियों ने कहा कि एक तरफ तो बरसात के मौसम में सरकार की ओर से खनन पर पाबंदी लगाई गई है, बावजूद इसके क्षेत्र में अवैध खनन लगातार हो रहा है। रोजाना कई ओवरलोड वाहन रेत बजरी लेकर सड़कों पर दौड़ते दिखाई देते हैं। क्षेत्र की अधिकतर लिक सड़कें इन ओवरलोड वाहनों के कारण दिन प्रतिदिन दयनीय होती जा रही हैं। अवैध खनन के चलते ओवरलोड वाहन लोगों के लिए जी का जंजाल बने हुए हैं। क्षेत्रवासियों ने सरकार एवं पुलिस प्रशासन से मांग करते हुए कहा कि ओवरलोड वाहनों पर कानून के तहत कार्रवाई की जाए।

Edited By: Jagran