जासं, लुधियाना। Property Tax: प्रापर्टी टैक्स पर 10 प्रतिशत की छूट शुक्रवार को खत्म हो गई। इस साल नगर निगम ने प्रापर्टी टैक्स वसूल करने में पहले सभी रिकार्ड को तोड़ दिए। साल 2022-23 के लिए निगम ने प्रापर्टी टैक्स से 120 करोड़ रुपये जुटाने का लक्ष्य रखा है। 30 सितंबर तक निगम खजाने में 84 करोड़ रुपये आ चुके हैं। शुक्रवार को छूट के साथ प्रापर्टी टैक्स जमा करवाने के आखिरी दिन कुल 7600 रिटर्न फाइल हुईं। एक दिन में निगम के खजाने में सात करोड़ रुपये जमा हुए।

इस माह से निगम कर्मचारी प्रापर्टी टैक्स डिफाल्टर्स और गलत रिटर्न फाइल करने वालों पर शिकंजा कसने की तैयारी कर रहे हैं ताकि अगले छह माह के दौरान 120 करोड़ के लक्ष्य पूर्ण किया जा सके। गौरतलब है कि सत्ता परिवर्तन के बाद निगम के खजाने में जीएसटी शेयर 50 प्रतिशत पैसा ही पहुंचा है। निगम के सामने वित्तीय संकट खड़ा हो गया है।

अक्टूबर में फेस्टिवल सीजन को देखते निगम कमिश्नर के आदेश पर प्रापर्टी टैक्स वसूली पर फोकस रखा था। ताकि सितंबर माह का वेतन जारी करने में कोई परेशानी न उठानी पड़े। अकेले सितंबर माह के दौरान निगम खजाने में लगभग 55 करोड़ रुपये एकत्र हुए हैं। अगर एक अप्रैल से लेकर 30 सितंबर की बात करें तो निगम खजाने में कुल 84 करोड़ रुपये पहुंच चुके हैं, जो कि अभी तक रिकार्ड टैक्स कलेक्शन है।

120 करोड़ रुपये का रखा है लक्ष्य, अब तक 85 करोड़ किए इकट्ठा

कर वसूली में जोन डी अव्वल इस बार प्रापर्टी टैक्स एकत्र करने में जोन डी सबसे आगे रहा है। साल 2021-21 में अकेले जोन डी ने पूरे साल में 34.51 करोड़ रुपये प्रापर्टी टैक्स से एकत्र किए थे। इस बार सितंबर माह के अंत तक यह कलेक्शन लगभग 40 करोड़ रुपये पहुंच गई है। सितंबर माह के दौरान जोन डी जोनल कमिश्नर जसदेव सेखो ने 20 करोड़ रुपये एकत्र करने का लक्ष्य लिया था। सितंबर माह में जोन की तरफ से 30 करोड़ रुपये एकत्र किए है। अगर अकेले सितंबर माह के टैक्स कलेक्शन की अन्य जोन की बात करे तो उनका ग्राफ भी बढ़ा है।

Edited By: Vipin Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट