संस, सिमरीबख्तियारपुर (सहरसा): नगर परिषद के खम्हौती स्थित कन्या उच्च माध्यमिक विद्यालय में 936 बच्चे नामांकित है, परंतु इस विद्यालय में पदस्थापित 12 शिक्षक सिर्फ प्राथमिक स्तर तक के बच्चों के लिए हैं। शैक्षणिक सत्र में वर्ग दशम के 115 परीक्षार्थी बिना पढ़े हुए मैट्रिक की परीक्षा में शामिल हुए। जिसमें से 85 परीक्षार्थी भगवान के भरोसे मैट्रिक पास कर गए। वर्ग नवम एवं दशम के बच्चों को पढ़ाने के लिए इस विद्यालय में एक भी शिक्षक नहीं हैं। इस शैक्षणिक सत्र में इस विद्यालय में वर्ग नवम में 145 एवं वर्ग दशम में 78 छात्र एवं छात्राएं नामांकित किए गए हैं, परंतु इन्हें पढ़ाने के लिए एक भी शिक्षक को इस विद्यालय में प्रतिनियुक्त नहीं किया गया है।छात्र एवं छात्राएं विद्यालय तो आते हैं। प्रधानाध्यापक अशोक कुमार ने बताया कि वर्ग नौ एवं 10 के बच्चों को पढ़ाने के लिए मध्य विद्यालय खम्हौती के शिक्षक सदानंद यादव, मध्य विद्यालय मधुबन से शिक्षक मुकेश कुमार एवं मध्य विद्यालय भौरा से शिक्षिका स्वीटी कुमारी का प्रति नियोजन इस विद्यालय में किया गया था। परंतु सदानंद यादव एवं मुकेश कुमार विद्यालय योगदान करने नहीं आए। शिक्षिका स्वीटी कुमारी विद्यालय योगदान के दो माह बाद अपने मूल विद्यालय लौट गई। जिस कारण वर्ग नौ एवं 10 के छात्र छात्राओं को विषय बाढ़ पढ़ाई कराने में काफी कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है। अभिभावक उपेंद्र यादव,रियाजुल हसन, ब्रह्मदेव यादव,कालू यादव,अमित कुमार यादव,द्रोपदी देवी आदि ने बताया कि इस स्कूल को 2020 में अपग्रेड तो कर दिया गया। परंतु इस विद्यालय में पढ़ने वाले नौ एवं 10 के छात्र छात्राओं को पढ़ाने के लिए शिक्षक ही नहीं है। प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी सत्य प्रकाश कुमार ने बताया कि मामले में वरीय पदाधिकारी को अवगत कराते हुए मार्गदर्शन मांगा गया है।

Edited By: Jagran