जयदेव गोगा, नवांशहर : प्रदेश के कई क्षेत्रों में कोविड-19 के मामले में वृद्धि चिता का विषय बना हुआ है। पंजाब सरकार के हालिया निर्देशों के संबंध में सभी शैक्षणिक संस्थानों, इन डोर आउट डोर सभाओं, माल व सार्वजनिक संस्थाओं आदि में उचित मास्क पहनने को कहा गया है। साथ ही, कोविड प्रोटोकाल बरतने के निर्देश भी जारी किए गए हैं। इस संबंध में डा. दविदर ढांडा का मानना है कि कोविड-19 के अनुकूल व्यवहार के मुताबिक सामाजिक दूरी व अगर किसी शख्स में कोविड-19 के लक्षण हैं, तो उसे तुरंत जांच करवाकर कोविड-19 प्रोटोकाल का पालन करना चाहिए। सभी लोगों को बरतनी होगी पूरी सावधानी

सीनियर सिटीजन यशपाल सिंह हाफिजाबादी का कहना है कि कोरोना संक्रण के मामलों में एक बार फिर बढ़ोतरी हो लगी है। पंजाब में सक्रिय मामलों की संख्या बढ़ रही है। यह सब लापरवाही का ही परिणाम है। लोगों ने मास्क पहनना छोड़ा हुआ है और शारीरिक दूरी का पालन भी नहीं कर रहे हैं। इसके अलावा कुछ लोग वैक्सीन की दोनों डोज लगवाने में भी संकोच कर रहे हैं। नियमों का पालन करना जरूरी है। अगर अभी से सतर्कता न बरती गई तो परिणाम बहुत गंभीर हो सकते हैं। कोरोना पर काबू पाने के लिए सतर्कता बरतना जरूरी

प्रिसीपल अरविदर का कहना है कि जिला वासियों को कोरोना संकट से बचने के लिए सावधानी से काम लेना चाहिए। हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि पहले भी सजगता और सतर्कता बरत कर ही कोरोना पर काबू पाया गया था। लोगों को मास्क पहनने व साफ सफाई के प्रति किसी भी प्रकार की ढील नहीं बरतनी चाहिए। स्वास्थ्य विभाग द्वारा बताए गए निर्देशों का पालन करने से ही हम सभी की भलाई है।

Edited By: Jagran