प्रमुख पर प्राथमिकी के बाद पुलिस हुई रेस, छानबीन का दायरा बढ़ा

जागरण संवाददाता, दुमका : दुमका जिले के गोपीकांदर थाना क्षेत्र में हो रहे अवैध पत्थर, कोयला व बालू उत्खनन व परिवहन के कारोबार पर अंकुश लगाने की तमाम प्रशासनिक पहल के बाद अब इसमें पंचायत स्तर के प्रतिनिधियों की सहभागिता का मामला भी सामने आया है। दो दिन पूर्व काठीकुंड थाना क्षेत्र के आलूबेड़ा गांव के समीप दो ट्रकों से कथित पर तौर पर रंगदारी मांगने के मामले में बिहार के बेगूसराय निवासी ट्रक चालक सरोज कुमार द्वारा काठीकुंड प्रमुख विमला नीपू सोरेन समेत उनके दो सहयोगी एडमीन सोरेन व प्रदीप वर्मा पर प्राथमिकी दर्ज करने के बाद पुलिस पूरे मामले की गहराई से छानबीन में जुट गई है।

काठीकुंड के थाना प्रभारी श्यामल मंडल ने कहा कि इस मामले की गंभीरता से जांच की जा रही है। उन्होंने कहा कि घटना वाले दिन ही पुलिस दोनों ट्रकों को जब्त कर थाना ले आई है। प्रमुख के स्तर से दी गई सूचनाओं की भी पुलिस जांच कर रही है ताकि इस अवैध कारोबार के धंधे में शामिल गिरोह व इसके सदस्यों पर नकेल कसी जा सके। पुलिस को खनन विभाग के पास भेजी गई रिपोर्ट के उपरांत खनन विभाग के स्तर से दोनों ट्रकों पर लदे चिप्स के चालान व इसकी वैद्यता रिपोर्ट का भी इंतजार है। इधर, सूत्र बताते हैं कि गोपीकांदर व काठीकुंड प्रखंड के विभिन्न इलाकों में रात के अंधेरे में अवैध पत्थर, कोयला व बालू का धंधा चल रहा है। यहां से खनिज बिहार भेजा जा रहा है।

Edited By: Jagran