जागरण संवाददाता, मनाली : मनाली के सोलंग गांव में लोक निर्माण विभाग के दो अधिकारियों को जूतों की माला पहनाने व सरकारी ड्यूटी में बाधा पहुंचाने के आरोप में पुलिस ने अज्ञात लोगों के विरुद्ध मामला दर्ज किया है। लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों ने मनाली थाना में शिकायत दी है।

लोक निर्माण विभाग के दो कनिष्ठ अभियंता मंगलवार को सोलंग गांव में खराब झूला पुल की मरम्मत करने व बैली ब्रिज के सर्वेक्षण के लिए गए थे। रविवार को सोलंग गांव में लकड़ी का अस्थायी पुल ब्यास नदी के तेज बहाव से टूट गया था। इससे दो किशोरों की बहने से मौत हो गई थी। किशोरों की मौत से गुस्साए ग्रामीणों ने झूल पुल की रस्सी काट दी थी। दोनों कनिष्ठ अभियंताओं को करीब चार घंटे तक झूला पुल में बैठाकर रखा था। दोनों अधिकारियों को जूतों की माला पहनाई थी। हालांकि पुलिस मौके पर मौजूद थी, लेकिन दोनों अधिकारी ब्यास नदी के उस पार चले गए थे।

डीएसपी मनाली हेम राज वर्मा ने बताया कि लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों की शिकायत पर सोलंग के ग्रामीणों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। वीडियो फुटेज देखकर आरोपितों की पहचान होगी।

वहीं, बुधवार को उपायुक्त कुल्लू ने घटनास्थल का दौरा किया। ग्रामीणों ने शांतिपूर्वक तरीके से नाराजगी जताई और अनदेखी का आरोप लगाया। उपायुक्त ने कहा कि लोक निर्माण विभाग के अधीक्षण अभियंता ने पुल की गुणवत्ता को लेकर जांच के आदेश दे दिए हैं। पुल की गुणवत्ता में कमी पाई जाती है तो निर्माण कार्य रोक दिया जाएगा। एक महीने में बनेगा सोलंग बैली ब्रिज

शिक्षा मंत्री गोविद ठाकुर ने कहा कि सोलंग में अस्थायी पुल टूटने से दो बच्चों की मौत दु:खद व दुर्भाग्यपूर्ण घटना है। प्रभावित परिवार को हुए नुकसान की भरपाई नहीं की जा सकती, लेकिन सरकार हमेशा प्रभावित परिवार के साथ खड़ी है। सोलंग गांव के ग्रामीणों का गुस्सा जायजा है। प्रदेश सरकार उनके दुख दर्द दूर करने के हरसंभव प्रयास कर रही है, एक महीने के भीतर सोलंग गांव के लिए बैली ब्रिज बनकर तैयार हो जाएगा। कनिष्ठ अभियंता संघ कलम छोड़ हड़ताल पर

सोलंग गांव में लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों के साथ दु‌र्व्यवहार पर कनिष्ठ अभियंता संघ ने कलम छोड़ हड़ताल शुरू कर दी है। बुधवार को संघ के कुल्लू जिला के महासचिव अनूप शर्मा की अध्यक्षता में हुई बैठक में यह निर्णय लिया गया। अनूप शर्मा ने कहा कि ग्रामीणों द्वारा अधिकारियों के साथ किया गया दु‌र्व्यवहार असहनीय है। जब तक दोषियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं होती या उन्हें पकड़ा नहीं जाता तब तक हड़ताल जारी रहेगी। राज्य स्तर पर एक दिन की सांकेतिक हड़ताल रहेगी।

Edited By: Jagran