जागरण संवाददाता लुधियाना : मुल्लांपुर दाखा के गांव देतवाल में पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) की शाखा में बीते वीरवार को शाम के समय हुई लूट की वारदात को पुलिस ने सुलझा लिया है। बैंक के जूनियर क्लर्क और उसके सिक्योरिटी गार्ड दोस्त ने लूट की साजिश रची थी। पुलिस ने लूट में शामिल पांच लुटेरों को काबू कर लिया है। इनमें से चार को लुधियाना और एक को जालंधर जिले की पुलिस ने पकड़ा है। इसके पास से .12 बोर की डबल बैरल बंदूक और .32 बोर की देसी पिस्तौल मिली है। इसके अलावा लूटी गई रकम में से 2.39 लाख रुपये भी बरामद कर लिए हैं। पुलिस के अनुसार इन लुटेरों को गांव बारनहाड़ा के श्मशानघाट से पकड़ा गया है। इनकी उपेंद्र सिंह व कुलदीप सिंह निवासी तलवाड़ा, इंद्रजीत सिंह निवासी गौंदपुर लुधियाना, रवि सहोता निवासी सलेम टाबरी के रूप में हुई है। हालांकि अब भी लूट में शामिल दो आरोपितों को पकड़ना बाकी है।

पुलिस कमिश्नर डा. कौस्तुभ शर्मा और जेसीपी सिटी नरिदर भार्गव ने मीडिया से बातचीत में बताया कि उक्त लुटेरों ने हथियारों के बल पर पीएनबी बैंक की शाखा से 7.45 लाख रुपये लूटे थे। पुलिस ने 48 घंटे में इन्हें काबू कर लिया। लूट का मुख्य साजिशकर्ता रूपिंदर सिंह है। वह एक प्राइवेट कंपनी में सिक्योरिटी गार्ड है। बैंक का जूनियर क्लर्क कुलदीप सिंह भी उसके ही गांव तलवाड़ा का रहने वाला है। दोनों अक्सर मिलते रहते थे। दोनों ने लूट की साजिश रची। रूपिंदर ने इंद्रजीत सिंह, रवि सहोता सहित जालंधर के दो लुटेरों को साथ मिलाकर वारदात को अंजाम दिया। रूपिंदर अन्य साथियों के साथ नकाब पहनकर बैंक में घुसा था। वे कुलदीप के इशारों से समझ रहा था कि बैंक में कैश कहां है। लूट के बाद उन्हें कैसे और किस रास्ते से निकलना है यह सब भी उसी ने बताया था।

डीएसपी की हत्या के मामले में आरोपित है जूनियर क्लर्क का भाई

लुधियाना के बहुचर्चित डीएसपी की हत्या मामले में जूनियर क्लर्क कुलदीप सिंह का भाई आरोपित है। वहीं गौंदपुर के इंद्रजीत सिंह के खिलाफ मोगा के धर्मकोट में छीनाझपटी और नशा तस्करी का केस दर्ज है। यह लोग लूट के लिए लुधियाना आए थे। जिन मोटरसाइकिल से यह लोग भागे थे उनका नंबर सेफ सिटी प्रोजेक्ट के तहत लगे कैमरों में आ गया था। इसके बाद ही पुलिस इनके पीछे लगी थी। वारदात के बाद खरीदा पिस्तौल, एक और लूट की रच रहे थे साजिश :

बैंक में लूट के बाद इंद्रजीत सिंह ने देसी पिस्तौल खरीदा। अब वह साथियों के साथ मिलकर एक और लूट की साजिश रच रहा था। यह लोग श्मशानघाट में इकट्ठा हुए और पुलिस ने उन्हें दबोच लिया। कमिश्नरेट पुलिस के बाद जगराओं की पुलिस आरोपितों को रिमांड पर लेकर पूछताछ कर सकती है।

---

एक आरोपित जालंधर पुलिस ने भी किया काबू

जालंधर : सीआइए स्टाफ जालंधर की पुलिस ने भी गिरोह के एक सदस्य गांव नंगल थाना फिल्लौर के सोमनाथ उर्फ रवि को गिरफ्तार कर लिया है। उसके पास से लूट की रकम में से 70 हजार रुपये, एक मोटरसाइकिल और एक मोबाइल फोन बरामद हुआ है।

Edited By: Jagran