भुवनेश्वर, जागरण संवाददाता। Odisha Flood: महानदी में बाढ़ (Flood in Mahanadi) का पानी पीक फ्लो से होकर गुजर रहा है। मुंडुली में पानी का बहाव अब चरम पर पहुंच गया है। वर्तमान समय में मुंडुली से 12 लाख 1426 क्यूसेक पानी बह रहा है।

ऐसे में महानदी में भीषण बाढ़ आ गई है, जिससे जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा और पुरी तथा खुर्दा जिला बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। विशेष राहत आयुक्त प्रदीप कुमार जेना ने सभी से सतर्क रहने को अनुरोध किया है।

237 गांव पूरी तरह बाढ़ के पानी में डूबे 

विशेष राहत आयुक्त श्री जेना ने बाढ़ की स्थिति के संदर्भ में जानकारी देते हुए कहा है कि अब तक पुरी जिले में मकरा नदी में एक और खुर्दा जिले के राजुवा (दाएं) में दो जगह पर घाई बनी है। स्थानीय जनप्रतिनिधि, जल संसाधन विभाग और जिला प्रशासन के अधिकारी वहां मौजूद हैं और स्थिति पर नजर रखे हुए हैं।

अब तक 10 जिलों के 49 ब्लॉक, 369 ग्रामपंचायत, 1365 गांव के 2 लाख लोग बाढ़ से प्रभावित हुए हैं। 237 गांव पूरी तरह बाढ़ के पानी में डूब गए हैं।

जिलाधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि पानी में फंसे लोगों को तत्काल सुरक्षित स्थान पर पहुंचाने के साथ ही पका हुआ खाना उपलब्ध कराएं। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों से प्राथमिकता के आधार पर लोगों को निकाला गया है और आवश्यक पका हुआ भोजन और सूखा भोजन उपलब्ध कराने की व्यवस्था की गई है।

एनडीआरएफ, ओड्राफ और अग्निशमन इकाइयां तैनात

राहत और बचाव कार्यों में सहायता के लिए 9 एनडीआरएफ, 9 ओड्राफ और 44 अतिरिक्त अग्निशमन इकाइयों को विभिन्न स्थानों पर तैनात किया गया है। स्वास्थ्य एवं पशुपालन विभाग की टीमों को भी बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने के लिए अलर्ट कर दिया गया है।

चारे की व्यवस्था का आदेश दिया गया है और बिजली विभाग को बिजली की आपूर्ति के लिए आवश्यक व्यवस्था करने का निर्देश दिया गया है।

इसी तरह 10 जिलों में भीषण बाढ़ की स्थिति को देखते हुए राज्य सरकार ने 10 जिलों के सभी सरकारी कर्मचारियों की छुट्टी एक सप्ताह के लिए रद कर दिया है। श्री जेना ने कहा कि जो कर्मचारी छुट्टी पर हैं, उन्हें तुरंत काम पर जाने का निर्देश दिया गया है।

Edited By: Babita Kashyap