1963 में बनी है कार 

सीएनबीसी डॉट काम की एक रिर्पोट में बताया गया है कि साल 1963 में बनी फरारी 250 जीटीओ पुराने सारे रिकॉर्ड तोड़ कर दुनिया की सबसे मंहंगी कार कहलाने का खिताब हासिल कर लिया है। खबर के मुताबिक अमेरिका एक व्यापारी ने इस कार की सबसे ऊंची बोली लगाकर 70 मिलियन डॉलर यानी करीब 469 करोड़ रुपये में इसे खरीद लिया है। कार का चेसिस नंबर 4153 जीटी बताया गया है।

करते हैं दुर्लभ कारों का संग्रह

अमेरिका से मिली खबरों के अनुसार इस अमेरिकी व्‍यवसायी का नाम डेविड मैकनेल है। डेबिड कार ऐसेसरीज बनाने वाली फर्म वेदरटेक के चीफ एक्‍जीक्‍यूटिव हैं। इनके बारे में कहा जाता है कि वे दुर्लभ फरारी कारों का संग्रह करने के शौकीन हैं और उन्‍हें पहले भी खरीदते रहे हैं। इस बार उन्‍होंने साल 1963 में बनी इस फरारी 250 जीटीओ को अपने संग्रह का हिस्‍सा बनाया है। दावा किया जाना रहा है कि जिस कीमत पर ये कार खरीदी गई वो कीमत पुराने रिकॉर्ड के दाम की तुलना में लगभग दोगुनी है। 

क्‍या था पुराना कीर्तिमान 

इससे पहले सर्वाधिक कीमत का रिकॉर्ड 2014 में बना था जब ऐसी ही एक नीलामी में एक 250 जीटीओ कार को 38 मिलियन डॉलर यानि 254 करोड़ में खरीदा गया था। ऐसा माना जाता है कि फरारी कार संग्रह करने वालों को सबसे ज्यादा पसंद आती हैं। एक अनुमान के अनुसार अब तक सबसे ऊंचे दामों में  में बिकीं टॉप 10 कारों में से 7 कारें इटालियन कारमेकर की ही रही हैं। उससे भी खास बात ये है कि उनमें से तीन कारें 250 जीटीओ ही हैं। 

 

Posted By: Molly Seth