चेहरे पर शिप 

अब वास्‍तव में ये शख्‍स बना या नहीं बना ये तो पता नहीं पर इसकी पानी के जहाजनुमा मूछों को देख कर लगता है कि ये ऐसे किसी जहाज का कप्‍तान बनना चाहता था या उस पर काम करना चाहता था। 

एल्‍फाबेट की क्‍लास 

अब इन मूछों को देख कर तो यही याद आता है कि ये साहब एल्‍फाबेट सिखाना चाहते हैं। इसीलिए इनकी मूछों में ओ, है सी है, डब्‍ल्‍यु है और भी अंग्रेजी के वर्ण आप चाहें तो खोज सकते हैं।

गाल है खास 

गालों को घेरे ये गोल गोल मूछों के गोले इस उभरे गालों को और भी खास बना रहे हैं। 

चलों झूलें 

वाकई ये साहब या तो झूलने के लिए हाथों के इस्‍तेमाल नहीं करना चाहते या फिर नहा कर खुद को तार पर लटका कर सूखना चाहते हैं। 

मूछें धारदार

नुकीले तीर जैसी ये मुछें किस किस काम आ सकती हैं ये आप भी तय कर लीजिए। 

हवाई जहाज 

अब या तो इन्‍हें हवाई जहाज से बेहद प्‍यार है या फिर ये हवा में उड़ने को तैयार हैं। 

मूछों का सितारा

आपने स्‍टार फिश देखी होगी या उसके बारे में सुना होगा। यहां देखिये स्‍टार मूछें अब स्‍टार मूछें स्‍टार हैं या मूछ वाला ये हम नहीं बतायेंगे आप खुद तय करिए। 

 

Posted By: Molly Seth

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस