लाॅटरी के ब्रोशर आैर गणित का फाॅर्मूला

दरसल अमेरिका में रहने वाले एक शख्स ने वेस्टर्न मिशिगन यूनिवर्सिटी से गणित में बैचलर डिग्री ली थी आैर इसके बाद वो आैर उसकी पत्नी किराने की दुकान चलाने लगे। ये काम उन्होंने लगभग 17 तक किया। इसके बाद एक रोज उनके हाथ लाॅटरी का एक ब्रोशर लगा। इसके बाद अंकगणित के एक सामान्य फाॅर्मूले की मदद से उन्हें ये राज पता लगा कि कैसे लाॅटरी का नंबर पता लगेगा आैर जीत मिलेगी। अपने ही बनाये इस फाॅर्मूले से दोनों ने मिशिगन स्टेट लाॅटरी से एक के बाद एक जीत हासिल करके करीब 186 करोड़ रुपये कमा लिए। अब वे बेहद खुश हैं आैर अपना किराने का काम बंद करके रिटार्यड जिंदगी बिता रहे हैं। उन्होंने ये राज अपने दोस्तों से भी शेयर किया आैर उन्हें पैसा कमाने के लिए प्रेरित किया।

कुछ एेसा था फाॅर्मूला

द सन के अनुसार इस जोड़े का नाम जेरी सेल्बी और मार्ज सेल्बी हैं। जेरी का कहना है कि वे फाॅर्मूला बनाने के बाद लगभग 6 साल तक विभिन्न लॉटरी के टिकट खरीदते रहे और हर बार जीतते गए। उनको अपने कैलकुलेशन से पता चला कि जब कोर्इ भी लाॅटरी में 50 लाख डॉलर का जैकपॉट नहीं जीत पाता तब पैसे को 5, 4 या 3 नंबर मैच करने वाले लोगों को बांट दिया जाता है। इसी के हिसाब से वो एक ही लाॅटरी के लाखों रुपए देकर हजारों टिकट खरीद लेते थे आैर इस तरह से जैक पाॅट ना मिलने पर भी उनको उससे दुगनी कमार्इ हो जाती थी।

अब बनेगी की फिल्म

जेरी आैर मार्ज ने अपनी लाॅटरी जीतने की तरकीब आैर अमीर होने की कहानी एक टीवी साक्षात्कार में बतार्इ जो काफी चर्चित हो गर्इ। इसके बाद अब एक हाॅलीवुड फिल्म निर्माता ने उनसे संपर्क किया है आैर उनकी कहानी पर फिल्म बनाने की इजाजत मांगी है।

Posted By: Molly Seth