लंदन। यहां की एक अदालत ने 179 लोगों द्वारा दायर की गई तलाक की अर्जी खारिज दी। दरअसल इन सभी लोगों की याचिकाओं में एक ही पता दर्ज पाया गया। इससे कोर्ट को शक हुआ। मामले की पड़ताल की गई तो पता चला कि इन सभी लोगों की याचिकाओं में एक ही पता दर्ज किया गया है। पूरे मामले के उजागर होने के बाद पता चला कि वास्तव में इसके लिए याचिकाकर्ता जिम्मेदार नहीं थे। वास्तव में उन सभी ने एक ही वकील किया था और उस वकील ने सभी याचिकाओं में एक की पता लिख दिया। यानी कि वह वकील इस कारनामे के लिए जिम्मेदार निकाला। उसने पैसे कमाने के लिए इस तरह की हरकत की। अब वकील के खिलाफ भी जांच शुरू हो गई है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस