नई दिल्ली, जेएनएन। इंसानों की मौत का राज उसकी सूंघने की क्षमता से जुड़ा है। यह बात आपको थोड़ी सी अटपटी जरूर लग रही हो, लेकिन हाल ही में हुए एक शोध में ऐसा दावा किया गया है। शोधकर्ताओं ने अपनी एक रिसर्च में पता लगाया है कि जिन बुजुर्ग लोगों के सूंघने की क्षमता 50 फीसदी से ज्यादा खराब है, वे 10 साल से ज्यादा जीवित नहीं रहेंगे यानी 10 साल के अंदर ही उनकी मौत हो सकती है।

इस शोध में पाए गए तथ्यों​ को मेडिकल से जुड़ी पत्रिका एनल्स आफ इंटरनल मेडिसिन में प्रकाशित किया गया है। शोध के दौरान पाया गया कि जिन बुजुर्ग लोगों की सूंघने की क्षमता 46 फीसदी तक खराब थी, उनके 10 साल तक जीवित रहने की संभावना बताई गई। वहीं, जिनके सूंघने की क्षमता 30 फीसदी तक ही खराब थी, उनके जीवित रहने की संभावना 13 साल तक बताई गई।   

इस शोध से जुड़े प्रोफेसर होन्गलेई चेन का कहना है कि बुजुर्ग लोगों में सूंघने की क्षमता में कमी आना बहुत ही सामान्य है, और इसका संबंध मौत से है। इस शोध में सबसे पहले उन संभावित कारणों पर ध्यान देना था, जिनसे मौत की अत्यधिक आशंका जताई गई।

प्रोफेसर चेन और उनकी टीम ने अमेरिका के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑन एजिंग के आंकड़ों का इस्तेमाल शोध में किया। शोध के दौरान उन्होंने लगभग 2300 लोगों के स्वास्थ्य आंकड़ों की समीक्षा की, जिनकी उम्र 71 वर्ष से 82 वर्ष के बीच थी। इसमें महिला और पुरुष दोनों शामिल थे।

शोधकर्ताओं ने उन लोगों को सूंघने की क्षमता के आधार पर अच्छे, सामान्य और खराब की तीन श्रेणियों में रखा था। उन लोगों को 12 तरह के गंध सूंघने को दिए गए थे।

प्रोफेसर चेन का कहना है कि यदि किसी को सूंघने में दिक्कत आ रही है तो उसे किसी डॉक्टर से परामर्श लेनी चाहिए। इस शोध से पता चलता है कि अगर किसी बुजुर्ग की सूंघने क्षमता प्रभावित होती है तो उसे स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हो सकती हैं।   

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: kartikey.tiwari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप