जापान बना रहा है अनोखी कार 

अभी तक तो देश दुनिया में ड्राइवरलेस कार टेक्‍नोलॉजी और उनके भविष्य के बारे में लोग बाते ही कर रहे थे। बहीं एक कार कंपनी इससे कई कदम आगे जाकर कार ड्राइविंग की सबसे अनोखी टेक्‍नोलॉजी लेकर दुनिया के सामने आ रही है। जापान की फेमस ऑटोमोबाइल कंपनी निसान जल्द ही कार ड्राइविंग की ऐसी तकनीक लेकर आ रही है, जिसमें कार में बैठा व्‍यक्ति अपने हाथों और पैरों से नही बल्कि अपने दिमाग के इशारे भर से कार को ड्राइव कर लेगा।

'ब्रेन जव व्‍हेकिल' तकनीक से कार चलेगी दिमाग के इशारे पर

ये तो सभी जानते हैं कि अनोखी और चौंकाने वाली तकीनीक को तैयार करने के मामले में जापानियों का वाकई कोई जवाब नहीं है। ऐसा हम इसलिए कह रहे हैं कि अमेरिका से लेकर जर्मनी तक तमाम देश सालों से ड्राइवरलेस कारों को सड़कों पर लाने को तुले हुए हैं, लेकिन कुछ ही देशों में सफल टेस्टिंग के अलावा दुनिया के किसी भी शहर में ड्राइवरलेस कारें कामयाब नहीं हो सकीं। जबकि अब जापान की मशहूर कार निर्माता कंपनी निसान ने एक तकनीक को पेश किया है, जिसके तहत दुनिया में कार और बाकी चौपहिया वाहनों को चलाने का तरीका बदल जायेगा। निसान ने इस अनोखी तकनीक को 'ब्रेनटू व्‍हीकल' नाम दिया है। इस तकनीक के साथ आने वाली कार इतनी स्‍मार्ट होगी कि स्‍टीयरिंग के बिना, सिर्फ कार चलाने वाले के दिमाग को रीड करके कार को सड़कों पर दौड़ाएगी। आम भाषा मे इस तकनीक को सोच कर कार चलाना कहा जाता है।

 

लॉसवेगास के इलेक्‍ट्रानिक्‍स शो में पेश होगी तकनीक

निसान कंपनी बी2वी नाम की इस तकनीक से लैस कार को अगले हफ्ते अमेरिका के लॉस वेगास में होने वाले इंटरनेशनल कंज्‍यूमर शो में पेश करने वाली है। कंपनी के एक्‍सीक्‍यूटिव वाइज प्रेजीडेंट का दावा है कि बी2वी तकनीक दुनिया में अपनी तरह की पहली तकनीक है, जो दिमाग के संकेत को रियल टाइम सेपहचान करके वाहनों को चलायेंगी।

ऐसे चलेगी दिमागी संकेतों से कार

निसान मोटर्स की ओर से कार ड्राइविंग की इस नई तकनीक को लेकर बताया गया है कि इसमें कार की ड्राइविंग सीट पर बैठा व्‍यक्ति अपने सिर पर माइक्रोसेंसर से लैस एक एक छोटी सी कैप लगाएगा। यह कैप हर सेकेंड ड्राइवर की ब्रेन मैपिंग करेगी और उससे निकलने वाले संकेतों को इस हाईटेक कार को भेजेगी। यहीं तरीका कार को सड़क पर दौड़ाएगा। कार चलाने को लेकर दिमाग में चल रही हर एक वेव एक्‍टीविटी को ये ब्रेन सेंसर रियल टाइम में ट्रैक करेंगे और कार में लगा ऑटोनॉमस ड्राइविंग सिस्‍टम इस सिग्‍नल को प्रोसेस करके कार को ड्राइव करेगा। 

 

ड्राइवर से बेहतर तेजी से कार कंट्रोल करने में सक्षम

अगर आप सोच रहे हैं कि ब्रेन से कार तक इन संकेतों को पहुंचने में तो काफी समय लगेगा, तब तो चल चुकी कार और एक्‍सीडेंट तो कभी भी हो सकता है। तो जनाब ऐसा बिल्‍कुल भी नही है। कार में मौजूद ऑटोनॉमस ड्राइविंग सिस्‍टम ड्राइवर के दिमाग से निकलने वाले वेव सिगनल्‍स को बहुत तेजी से प्रोसेस करके रोड पर बिल्‍कुल सही डिसीजन लेने की क्षमता रखता है। यहीं नही ये बी2वी कार तकनीक किसी ड्राइवर की तुलना में 0.2 से 0.5 सेकेंड्स तेजी से कार को कंट्रोल और हैंडल कर सकती है। पलक झपकने से पहले ही यह तकनीक कार को मोड़ या धीमा कर सकती है।

 

By Molly Seth