जीरो का कमाल 

ऐसा नहीं है कि 121 सदस्‍यों वाली नार्वे के खिलाड़ियों के दल में, जो विंटर ओलंपिक के लिए इस समय दक्षिण कोरिया में है, सभी को अंडे ही खाना पसंद है। ना ही वे प्रोटीन के लिए महज अंडों पर ही र्निभर हैं। इस टीम को तो एक गलत जीरों ने अंडे ही खाने को मजबूर कर दिया है। टीम के साथ चल रहे खिलाड़ियों के खान पान की व्‍यवस्‍था करने वाले कर्मचारी की गलती से लगे एक जीरो ने ये स्‍थिति पैदा कर दी है। अब तो लगता है कि सुबह, दोपहर, शाम तीनों समय के खाने में खिलाड़ियों को अंडे ही खाने होंगे। क्‍योंकि अंडों की तादात हजारों में है। 
1500 से 15000
हुआ कुछ यूं कि टीम के लिए खाने की सामग्री प्रदान करने के लिए दी गई लिस्‍ट में खिलाड़ियों के लिए 1500 अंडे मांगे गए थे। गड़बड़ ये हुई कि सामान लिखने वाले ने गलती से 1500 के आगे एक जीरो और लगा दिया और अंडे आ गए 15000। यानि प्रति खिलाड़ी 124 अंडे। वैसे तो टीम के शेफ कुछ अंडे वापस करने का प्रयास कर रहे हैं, पर उन्‍होंने कहा है कि अगर ऐसा नहीं भी हुआ तो टीम की प्रोटीन की डिमांड को देखते हुए इन्‍हें खाया जा सकता है। चलिए तो करीब 30 पदक जीतने का सपना लेकर आई नार्वे की टीम को शुभकामनायें कि वो अंडे खाये और पदक जिताये।      
 

By Molly Seth