शीशे का पुल

चीन ने हेबेई प्रांत के शिजियाझुआंग शहर में जमीन से 218 मीटर ऊपर कांच का खतरनाक पुल बनाया गया है। यह दुनिया का सबसे लंबा शीशे का पुल बताया जा रहा है। दो चट्टानों के बीच लटके इस पुल की चौड़ाई दो मीटर है। इसमें 1077 पारदर्शी शीशे लगे हैं, जो चार सेंटीमीटर मोटे हैं। शीशे का कुल वजन करीब 70 हजार किलो है। इस पुल को जानबूझ कर थोड़ा घुमावदार बनाया गया है ताकि लोगों को इस पर चलने में डर लगे। ये दुनिया के खतरनाक पुलों में से एक माना जा रहा है। हालांकि इस पर एक बार में 2000 लोगों का भार उठाने की क्षमता है पर सुरक्षा की दृष्‍टि से फिलहाल एक बार में केवल 500 लोग ही इस पर चल पायेंगे। 

लांगजियांग ग्रैन्ड ब्रिज

चीन में ही एशिया का सबसे लंबा और सबसे डराने वाला सस्पेन्सन ब्रिज है जिसका नाम लांगजियांग ग्रैन्ड पुल है। इसी साल 1 मई से चालू हुए दक्षिण-पश्चिम चीन के युन्नान प्रान्त में लांगजियांग नदी पर बने इस पुल को पूरा करने में करीब 5 साल का समय लगा है। इस पुल की लंबाई 8 हजार फुट और ऊंचाई 920 फुट है। यह पुल पहाड़ के दो तरफ बसे बाओशान्द और तेंगचोंग नाम के चीनी शहरों को जोड़ने का काम करता है। इस पुल को बनाने में करीब 151 मीलियन पाउन्ड का खर्च आया है। समुद्र से 8100 फुट ऊंचे पुल पर चलने में बड़े से बड़े बहादुर को भी थोड़ा डर तो जरूर लगेगा।

यी सन सिन ब्रिज दक्षिण कोरिया

ऐसा ही डराने वाला पुल है साउथ कोरिया का यी सन सिन ब्रिज। ये दुनिया का पांचवा सबसे लंबा पुल है जो साल 2007 में बनना शुरू हुआ था और 2012 में बन कर तैयार हुआ। 1,545 मीटर लंबे इस पुल का नाम दक्षिण कोरिया के एक बहादुर एडमिरल के नाम पर रखा गया था। दक्षिण कोरिया का यी सन सिन पुल, क्‍वांगयांग और येओसु शहर  जोड़ता है।

एगुइले डु मिडी ब्रिज फ्रांस

फ्रांस के एल्‍प्‍स में बना ये पुल अच्‍छे से मजबूत दिल वाले को थोड़ा सहमा देता है। ऐसा इसलिए है क्‍योंकि ना केवल इसकी ऊंचाई 12,500 फीट है बल्‍कि इस तक पहुचने के लिए हवा में झूलती हुई केबल कार से 9,200 फीट की दूरी तय करनी होती है जिसमें तकरीबन 20 मिनट लगते हैं। उसके बाद ये पुल पर एक पहाड़ी सुरंग से होते हुए निकलना पड़ता है। 

हुसैनी हैंगिग ब्रिज पाकिस्‍तान

पाकिस्‍तान में बना ये रस्‍सियों का झूलता पुल एशिया का सबसे खतरनाक हैंगिग ब्रिज माना जाता है। इसकी सबसे बड़ी वजह ये है कि पुल में लगी रस्‍सियां और लड़की 2011 के मानसून में बुरी तरह क्षतिग्रस्‍त हो चुकी हैं। अगर आप फिर भी इस पुल को पार करके जाना चाहते हैं तो अपना दिल मजबूत रखियेगा और रस्‍सियों को कस कर पकड़ियेगा। वरना इस पर चलते हुए जब ये तेज हवा में हिलता है तो पकड़ ढीली होते ही आपको उछाल कर पथरीली चट्टानों पर फेंक सकता है। 

 

Posted By: Molly Seth