मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

बच्चे, वो भी पुलिस कमिश्नर केवल एक दिन के लिए? जी हां, बेंगलुरु पुलिस और एक सामाजिक संगठन के विशेष पहल पर पांच बच्चों को एक दिन के लिए सम्मान के तौर पर शहर का पुलिस कमिश्नर बनाया गया।

पांच बच्चे रुथन कुमार, मोहम्मद साहिब, सैयद इमाद, श्रावणी और अराफात पाशा गंभीर बीमारी से जूझ रहे हैं। एक विशेष पहल के तहत बेंगलुरु पुलिस ने इन बच्चों को एक दिन के लिए शहर का पुलिस कमिश्नर बनने का सपना सच कर दिया।

उन सभी बच्चों को रेड कारपेट पर गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया, इसमें पुलिस की डॉग स्क्वॉड टीम भी शामिल थी। बच्चे डॉग स्क्वॉड टीम से मिलकर काफी खुश दिखाई दे रहे थे।

शहर के पुलिस कमिश्नर भास्कर राव ने उन बच्चों को एक दिन के लिए अपना चार्ज हैंडओवर किया। साथ ही उन्होंने बच्चों को प्रोत्साहित किया कि वे अपनी बीमारियों से पार पाकर जल्द स्वस्थ हो जाएं।

जब बच्चों से पूछा गया कि पुलिस अधिकारी बनकर आप क्या करेंगे? इस पर एक बच्चे अराफात पाशा ने कहा कि वह बुरे लोगों को जेल में डालेगा।

इस घटना के बारे में बेंगलुरु पुलिस ने 9 सितंबर को अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से जानकारी दी थी और कुछ तस्वीरें साझा की थी।

बेंगलुरु पुलिस के इस मानवीय पक्ष की सोशल मीडिया में काफी तारीफ हो रही है।

Posted By: kartikey.tiwari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप